IAS आशीष कुमार की कहानी, जिन्होंने स्कूल में काम करने वाली मेड के पैर छू जीता था लोगों का दिल

IAS Ashish Kumar Mishra: आज हम आपको एक ऐसे शख्स की कहानी बताएंगे जिसने अपनी आर्थिक लाचारी से ना घबरा कर उससे लड़ कर अपने जीवन में  मुकाम हासिल किया है। हम बात कर रहे हैं यूपीएससी परीक्षा (UPSC 2021) में 52वां स्थान हासिल करने वाले आशीष कुमार मिश्रा की, जो बिहार (Bihar) के पूर्णिया (Purniya) गांव के रहने हैं।

निम्न परिवार से आते है आशीष

आशीष कुमार के पिता सुशील कुमार मिश्रा आयकर विभाग के अधिवक्ता है। वह महबूब खान टोला के निवासी हैं। उनकी माता का नाम ज्योति मिश्रा है। आशीष एक निम्न मध्यम परिवार से आते हैं। आशीष कुमार मिश्रा ने डॉन बॉस्को ब्राइट करियर मिल्लिया कॉन्वेंट स्कूल से पढ़ाई की है। स्कूली शिक्षा के बाद बिहार में रहकर ही उन्होंने आईआईटी (IIT) की तैयारी की क्योंकि उनके पास कोटा (Kota) जाने के पैसे नहीं थे। उन्होंने बीएचयू (BHU) से आईआईटी (IIT) से पढ़ाई पूरी की है।

IAS को माना अपना आदर्श

IAS Ashish Kumar Mishra

आईएएस बने आशीष कुमार (IAS Ashish Kumar Mishra) मिश्रा, झारखंड (Jharkhand) कैडर के आईएएस मनीष और पूर्व डीजीपी अभ्यानन्द (DGP ABhyanand) व उनके चाचा अभय कुमार मिश्रा (Abhay kumar Mishra) को अपना आदर्श मानते हैं। साल 2014 में उन्होंने आईआईटी (IIT) की पढ़ाई पूरी की और उसके बाद यूपीएससी (UPSC) की तैयारी करना शुरू कर दी। वहीं आशीष कुमार मिश्रा कहते हैं कि वह अपने माता पिता को भी सबसे बड़ा आदर्श मानते हैं और सभी के आशीर्वाद से ही यह सपना साकार हो पाया है।

सोच और आत्मविश्वास सबसे जरूरी

आशीष कुमार मिश्रा कहते हैं कि किसी भी मुकाम को हासिल करने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी आत्मविश्वास, दृढ़ निश्चय,सकारात्मक सोच ,एकाग्रता के साथ समर्पण है। अगर इन चीजों को हम अपने दिल में बांध ले तो किसी भी सपने को साकार किया जा सकता है। वे कहते हैं कि बौद्धिक क्षमता सबसे बड़ा टॉनिक है। हम आपको बता दें कि आशीष कुमार मिश्रा ने अपने दूसरे प्रयास में आईएएस की परीक्षा में सफलता प्राप्त की है। पहले प्रयास में वह इंटरव्यू में असफल हो गए थे।

फेसबुक से रखी दूरी

आशीष कुमार मिश्रा कहते हैं कि उन्होंने पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया का प्रयोग नहीं किया। वे कहते हैं कि उन्हें फेसबुक पर देखने का शौक नहीं है। सोशल मीडिया को वह अपना दोस्त नहीं मानते, वह किताबों को अपना दोस्त मानते हैं। संपूर्ण एकाग्रता से यही जरूरी है, तभी उन्होंने अपने दूसरे प्रयास में इस सफलता को हासिल किया।

स्कूल पहुच कर किया सभी का शुक्रिया

आईएएस परीक्षा को पास करने के बाद आशीष कुमार मिश्रा अपने स्कूल पहुंचे। वहां पहुंच कर उन्होंने अपनी सादगी का एक बड़ा उदाहरण दिया। आशीष कुमार मिश्रा ने स्कूल पहुंचकर अपने शिक्षक प्रधानाचार्य समेत सब का शुक्रिया किया। साथ ही स्कूल में काम करने वाले मेड के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लिया। इस बात को देखकर स्कूल की मेड की आंख भर आई आशीष कुमार मिश्रा ने स्कूल में उपस्थित बच्चों को भी मोटिवेट किया और उन्हें भी सफलता के कुछ मंत्र दिए।

यह भी पढ़ें- बिहार के एक गांव से निकले आनंद वर्धन की कहानी, तीन बार प्रीलिम्स में फेल होकर बने IAS

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि