पटना के रिक्शेचालाक को कुदरत ने दिया अनोखा हुनर~ मिमिक्री ऐसी की खुद अभिनेता सकते में आ जाए

Patna: ऐसा कहा जाता है कि बिहार के नौजवानों में प्रतिभा की कोई कमी नहीं होती है, इसी का एक जीता जागता उदाहरण है, राजधानी पटना में एक रिक्शा चलाने वाला युवक दीपक। एक शख्स जो 50 से अधिक अभिनेताओं की मिमिक्री करता है। रिक्शा चलाने वाले इस युवक को लोग विधानसभा से लेकर पटना के गली-मोहल्ले में खूब सुनते हैं। दीपक अभिनेताओं से लेकर नेताओं तक की हूबहू मिमिक्री कर लेते हैं। जानकारी के मुताबिक, दीपक आर्थिक तंगी के चलते बचपन से ही रिक्शा चलाने (Deepak rickshaw puller do Mimicry) लगे थे, जिसके कारण उनकी कला को परवाज नहीं मिल सके। दीपक को अब भी उम्मीद है की उनकी मिमिक्री को किसी न किसी दिन एक मुकम्मल स्थान मिलेगा।

लालू यादव की मिमिक्री करने के लिए है फेमस

Deepak rickshaw puller do Mimicry

दीपक पिछले 15 सालों से रिक्शा चला रहे हैं। मूल रूप से दीपक झारखंड (Jharkhand) के धनबाद (Dhanbad) जिले के तोपचांची के रहने वाले हैं। लेकिन वह काफी सालों से पटना में रिक्शा चला रहे हैं। दीपक बताते हैं कि पिछले दिनों से लगातार उन्हें कोई न कोई मंच जरूर मिल रहा है, जहां से उनकी मिमिक्री को लोगों ने खूब सराहाया। लेकिन इन सब के बीच परिवार की स्थिति को देखते हुए उन्हें मजबूरन रिक्शा चलाना पड़ रहा है। दीपक लालू यादव से लेकर अमरीश पुरी, मिथुन, अजीत, शत्रुघ्न सिन्हा, देवानंद, अमिताभ बच्चन और राजकुमार की मिमिक्री कर लेते हैं। लेकिन सबसे दिलचस्प और अलग अंदाज से लालू यादव (Mimicry of Lalu Prashad) की मिमिक्री करते हैं। जब दीपक लालू यादव की मिमिक्री करते हैं तो लोग उनकी खूब सराहना करते हैं।

खुद को साबित करने की है चुनौती

दीपक के सामने अपने आप को साबित करने की चुनौती है। दीपक का मानना है कि (Deepak rickshaw puller do Mimicry) उन्हें अपनी कला का उचित सम्मान नहीं मिल पाता है। ग्रामीण क्षेत्रों में लोग मिमिक्री सुनने के बाद उनकी आंशिक रूप से आर्थिक सहायता तो करते हैं, मगर उन्हें ज्यादा कुछ दे नहीं पाते। दीपक का परिवार गरीब है और परिवार की जिम्मेदारी होंने के कारण वह रिक्शा चलाते हैं। दीपक को बिहार विधानसभा में आयोजित एक कार्यक्रम में पुरस्कार भी मिल चुका है। लेकिन विडंबना है कि इतने ऊंचे मंच पर पहुंचने के बाद भी दीपक को रिक्शा चलाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। दीपक अपनी कला को जिंदा रखने के लिए लगातार प्रैक्टिस भी करते हैं। रिक्शा चलाने से जो कमाई होती है उससे भाई की पढ़ाई के साथ-साथ परिवार का जिम्मा उठाते हैं।

यह भी पढ़ें- बिहार में मिला अंग्रेज़ो के ज़माने का 150 साल पुराना रोड रोलर, पटना म्यूजियम में रखा जाएगा

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि