Connect with us

बिहार

RRB NTPC परीक्षा को लेकर भड़के छात्र, रेलवे ट्रैक पर गाया राष्ट्रगान और ट्रैन में लगाई आ’ग

Published

on

rrb ntpc exam news

परीक्षा में धांधलेबाजी का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन करते अभ्यर्थियों की मांग पर रेलवे ने अब फैसला लिया है। रेलवे ने एनटीपीसी सीबीटी – 2 (RRB NTPC CBT – 2) और ग्रुप डी सीबीटी – 1 (Group D CBT – 1) की परीक्षा को रद्द करने का फैसला लिया है। रेलवे से मिली जानकारी के मुताबिक 26 जनवरी को मंत्रालय ने HR डिपार्ट्मन्ट के प्रधान कार्यकारी निदेशक दीपक पीटर गैब्रियल को कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त किया है।

इससे पहले रिजल्ट में धांधलेबाजी का आरोप लगाते हुए अभ्यर्थियों ने व्यापक स्तर पर विरोध करते हुए प्रदर्शन किया था। यही नहीं बिहार के कई शहरों के साथ – साथ उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में भी प्रदर्शन किया गया। वहीं, कई जगह से छात्रों और पुलिस के बीच मार – पीट की भी खबरें सामने आई। प्रयागराज मे भी पुलिस ने हॉस्टल्स से निकालकर छात्रों को पीटा।

बिहार से उत्तर प्रदेश तक किया प्रदर्शन

इस विरोध प्रदर्शन के देखते हुए 25 जनवरी को रेल मंत्रालय ने एक नोटिस जारी करते हुए यह बात साफ की कि हंगामा करने वाले अभ्यर्थियों को जिंदगी भर किसी भी पद पर नौकरी नहीं दी जाएगी।

रेलवे भर्ती बोर्ड की NTPC परीक्षा में धांधली को लेकर बिहार में छात्रों का बवाल और प्रदर्शन सबको हिला के रख दिया है और छात्रों ने गया रेलवे रेलवे जंक्शन के प्लेटफार्म पर पथराव करते हुए यार्ड में खड़ी पैसेंजर ट्रेन को भी आ’ग के हवाले कर दिया

छात्रों ने गाया राष्ट्रगान

26 जनवरी को राहुल गांधी ने प्रदर्शन कर रहे छात्रों का समर्थन करते हुए ट्वीट कर एक वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में बिहार के जहानाबाद रेलवे स्टेशन पर छात्रों ने रेलवे ट्रैक को जाम कर राष्ट्रीय गान गाकर परीक्षा में हुई गड़बड़ी के प्रति अपना विरोध जताया है।

इस ट्वीट में राहुल गांधी ने लिखा ”अधिकारों के लिए आवाज़ उठाने को हर नौजवान स्वतत्रं है, जो भूल गए है, उन्हें याद दिला दो कि भारत लोकतंत्र है, गणतंत्र था, गणतंत्र है!”

रेलवे की चेतावनी से भड़के छात्र

रेलवे की इस चेतावनी से बिहार में प्रदर्शन कर रहे छात्र भड़क गए है। उनका कहना है कि सरकार अमीरों और गरीबों के लिए काम कर रही है लेकिन मध्यमवर्ग के लिए कुछ नहीं कर रही है।

छात्रों का कहना है कि माध्यम वर्ग के पास केवल सरकारी नौकरी का एक ऑप्शन है वो भी सरकार उनसे छीन रही है। इसके लिए जब विरोध करते है तो उन्हें नोटिस देकर धमकाया जाता है।

क्यों विरोध में उतरे छात्र

बता दे कि 13 पदों के लिए आयोजित परीक्षा में बोर्ड द्वारा कई पदों के लिए एक ही उम्मीदवार का चुना गया है जिसके चलते है कई छात्र सलेक्शन से वंचित हो गए है। छात्रों का कहना है कि जब तक रिजल्ट में सुधार नहीं किया जाएगा तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा।

   
    >