चम्पारण का वह संगम जहां डुबकी लगाने से मिलता है मोक्ष, रामायण में है वर्णन!

Champaran News: एक ओर नेपाल का त्रिवेणी गाँव (Trivani Village) और दूसरी ओर चंपारण का भैंसालोटन गाँव (Bhensalotan Villlage) के बीच भारत-नेपाल की सीमा पर वाल्मिकीनगर (valmiki Nagar) से 5 किलोमीटर की दूरी पर पश्चिमी चम्पारण (West Champaran) का संगम है. यहाँ गंडक के साथ पंचनद तथा सोनहा नदी का मिलन होता है. वाल्मीकिनगर का त्रिवेणी संगम प. चंपारण का तीर्थ कहा जाता है. इनका वर्णन वाल्मीकि रामायण में भी मिलता है। शास्त्रों के अनुसार इस संगम (Champaran Sangam regarding Ramayana) में डुबकी लगाने से मोक्ष की प्राप्ति होती है.

श्रीमदभागवत पुराण के अनुसार विष्णु के प्रिय भक्त ‘गज’ और ‘ग्राह’ की लड़ाई इसी स्थल से शुरु हुई थी, जिसका अंत हाजीपुर (Hajipur) के निकट कोनहारा घाट पर हुआ था. यहाँ प्रत्येक वर्ष माघ संक्रांति को यहाँ मेला लगता है. यहां उल्लेखनीय है कि यहां चैत एवं माघ अमावस्या के पावन अवसर पर श्रद्धालु स्नान दान करने आते हैं।

बावन किलों से नाम पड़ा बावनगढ़ी

त्रिवेणी से 8 किलोमीटर दूर बगहा प्रखंड के दरवाबारी गाँव के पास बावनगढी किले का खंडहर मौजूद है. पुरातत्व विभाग की उदासीनता के कारण इस प्राचीन किले के पुरातात्विक महत्व के बारे में तथ्यपूर्ण जानकारी का अभाव है. यह स्थल बावन (52) किलों के अवशेषों के लिए जाना जाता है, इसीलिए इसे बावनगढ़ी कहा जाता है.

बावन का अर्थ है “52” जबकि गढ़ का अर्थ है किला. 52 किलों के अवशेष और 53 बाज़ार, गाँव (Champaran Sangam regarding Ramayana) के उत्तर में कुछ ही दूरी पर हैं और गाँव के उत्तर पश्चिम में एक बड़े तटबंध के अवशेष हैं. बावनगढ़ी के इतिहास से संबंधित कई मिथक आज भी यहाँ प्रचलित हैं. इसके पास ही महर्षि बाल्मिकी का वह आश्रम है, जहाँ राम के त्यागे जाने के बाद देवी सीता ने आश्रय लिया था. सीता ने यहीं अपने ‘लव’ और ‘कुश’ दो पुत्रों को जन्म दिया था. महर्षि वाल्मिकी ने हिंदू महाकाव्य रामायण की रचना भी यहीं की थी.

यह भी पढ़ें- श्री राम का बेहद गहरा नाता रहा है बिहार के सोमेश्वर नाथ महादेव मंदिर से, जानें पूरी कहानी!

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि