आनंद विहार को मिलेगा पहला अंडरग्राउंड रैपिड रेल टनल- होगा इन इलाकों को फायदा

नई दिल्ली: आनंद विहार बस स्टैंड परिसर में पहला रैपिड अंडरग्राउंड स्टेशन बनाया जाएगा। टनल बोरिंग मशीन (टीबीएम) सुदर्शन ने आनंद विहार से न्यू अशोक नगर की ओर दूसरी टनल का काफ़ी हिस्सा तैयार भी कर लिया है। इस मशीन की मदद से न्यू अशोक नगर की ओर पहले से ही चल रही टीबीएम एक समानांतर टनल बनाएगी। आनंद विहार से साहिबाबाद की ओर दूसरी टनल का निर्माण भी जल्द शुरु हो जाएगा जिसकी दूरी लगभग 2 किलोमीटर के आसपास रखी जाएगी। Anand Vihar Gets First Rapid Rail Tunnel

न्यू अशोक नगर आरआरटीएस स्टेशन (RRTS Station) की ओर पहली टीबीएम तेजी से टनल बना रही है। वहीं दूसरी टीबीएम की भी असेंबली कर दी गई है। आनंद विहार से न्यू अशोक नगर आरआरटीएस स्टेशन की ओर टनल बनाने का काम भी शुरू कर दिया गया है। दोनो टीबीएम अशोक नगर की तरफ आने और जाने वाली ट्रेनों के लिए समानांतर टनल का निर्माण कर रही है। टनल बनाने के बाद दोनो टीबीएम को रिट्रीविंग शाफ्ट से बाहर निकला जायेगा जो खिचड़ीपुर में बनाया गया था। इसके ठीक बाद कॉरिडोर का एलिवेटेड हिस्सा शुरू कर दिया जाएगा। दिल्ली की इस कोरिडोर के रूकने के लिए तीन स्टेशन बनाए गए हैं जो हैं — काले खां, न्यू अशोक नगर और आनंद विहार। इन तीन सरायों में से आनंद विहार ही धरातल पे है।

टीबीएम की असेंबलिंग में हो रही तेजी

anand vihar

साहिबाबाद की ओर टनल बनाने के लिए टीबीएम की असेंबलिंग भी तेजी से हो रही है। ये टीबीएम आनंद विहार से साहिबाबाद स्टेशन की ओर बनाए जा रहे टनल की लंबाई लगभग 2 किलोमीटर रखी गई है। वैशाली में इसका रिट्रीविंग शाफ्ट बनाया जा रहा है को साहिबाबाद के पास ही स्थित है। आपको बता दें की टीबीएम के द्वारा ही टनल सेगमेंट्स से ही टनल के रिंग जमीन के अंदर बनाए जाते हैं। इस टनल रिंग को बनाने के लिए 7 टनल सेगमेंट्स की जरूरत पड़ती है। एनसीआरटीसी की कास्टिंग यार्ड में स्पष्ट और क्वालिटी कंट्रोल के साथ ही टनल सेगमेंट्स का निर्माण किया जाता है।

सुरक्षा को प्राथमिकता

बड़े रोलिंग स्टॉक और 180 किलोमीटर प्रति घंटे की उच्च कोटि के डिजाइन के कारण अन्य मेट्रो प्रणालियों से हटकर आरआरटीएस की सुरंग का डायमीटर 6.5 मीटर का बनाया गया है। आरआरटीएस के भूमिगत प्रणिलियों के चलते दो समानांतर टनल बनाने का प्रावधान रखा गया है। आपात की स्थिति के लिए भी भूमिगत आपातकालीन निकास के रास्ते बनाए जाएंगे। लगभग हर 250 मीटर पर एक क्रॉस पैसेज भी होगा। टनल में ऑक्सीजन लेवल को बनाए रखने के लिए वेंटिलेशन डक्ट भी बनाए जाएंगे। Anand Vihar Gets First Rapid Rail Tunnel

ड्राइविंग लाइसेंस को लेकर मोदी सरकार ने किए बड़े बदलाव- घर बैठे बनवाएं लाइसेंस

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि