Connect with us

दिल्ली + एनसीआर

दरोगा मां की बेटी पूजा गुप्ता पहले प्रयास में बनी आईएएस,दादा का सपना किया सच

Published

on

ias pooja gupta

आज हम आपको कहानी बताएंगे जल्दी की रहने वाली पूजा गुप्ता की। दिल्ली की रहने वाली पूजा गुप्ता (Pooja Gupta) ने हाल में यूपीएससी 2020 (UPSC 2020) के जारी किए गए नतीजों में ऑल इंडिया 42 वी रैंक (AIR 42) हासिल की है। पूजा गुप्ता की मां दिल्ली पुलिस में एएसआई ( Delhi Police ASI) पद पर कार्यरत हैं और उनके पिता राजकुमार एक प्राइवेट नौकरी करते हैं। दरोगा मां की बेटी आईएस तक का सफर तय किया है।

डॉक्टर पूजा गुप्ता बनी आईएएस पूजा

पूजा गुप्ता बचपन से ही पढ़ाई में होशियार थी और उन्होंने बारहवीं कक्षा के बाद डॉक्टर की पढ़ाई करने का फैसला लिया। पूजा ने 12वीं कक्षा रोहिणी सेक्टर 15 ईएसआरसी (ESRC) हॉस्पिटल एंड मेडिकल कॉलेज से शिक्षा ली। 2012 में उन्होंने बीडीएस (BDS) का कोर्स किया और डॉक्टर (Doctor Pooja) बनने की राह पर चल पड़ी। साथ ही पूजा गुप्ता बचपन से ही यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा देना चाहती थी और उन्होंने पढ़ाई के साथ-साथ यूपीएससी की तैयारी जारी रखा और तैयारी करना (UPSC Preparation) शुरू कर दिया था।

ias pooja gupta

Dr Pooja to IAS Pooja

पहले प्रयास में हुई सफल

दरोगा मां की बेटी (Daroga Maa ki Beti)  पूजा गुप्ता (Pooja Gupta) ने साल 2018 में यूपीएससी का अपना पहला प्रयास दिया। अपने पहले प्रयास (1st Attempt)में सफल हो गई पूजा ने उस वक्त 147वी रैंक हासिल की। वह आईपीएस पद के लिए चुनी गई थी।

दादा का सपना किया सच

आईपीएस के लिए चुने जाने के बाद पूजा गुप्ता ने ट्रेनिंग पर जाने का फैसला लिया। लेकिन पूजा के दादाजी चाहते थे कि उनकी पोती आईएएस बने और पूजा भी अपनी मां की तरह समाज की सेवा करना चाहती थी। उन्होंने अपनी मां एएसआई रेखा गुप्ता को प्रेरणा बनाकर आईएएस की तैयारी करना शुरू किया। 2020 में सफलता हासिल करते हुए ऑल इंडिया में 42 वी रैंक प्राप्त की और अपने दादा का भी सपना पूरा किया। पूजा गुप्ता कहती हैं कि पढ़ाई के वक्त उन्होंने इंटरनेट की बेहद मदद ली और एनसीईआरटी की किताबो ने भी बहुत सहायता प्रदान की। पूजा कहती है कि यूपीएससी के लिए करंट अफेयर्स पर ध्यान देना जरूरी है और वह इसके लिए हर रोज अखबार पढ़ा करती थी।

   
    >