Connect with us

दिल्ली + एनसीआर

दिल्ली में वेस्ट और कबाड़ से बनेगा स्पेशल “बॉलीवुड पार्क”, अब राजधानी में दिखेगा जलवा

Published

on

delhi bollywood park

दिल्ली: दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (South Delhi Nagar Nigam) द्वारा जंगपुरा इलाके में बॉलीवुड पार्क (Bollywood Park) बनाने को लेकर मंजूरी दे दी गई है। साथ ही वेस्ट टू वंडर पार्क (Waste to Wonder Park) के दूसरे चरण के निर्माण को भी मंजूरी दे दी गई है।

बॉलीवुड पार्क का निर्माण लोहे की छड़ नट बोल्ट पंखे तार और पाइप जैसी कबाड़ की सामग्री से किया जाएगा तथा वेस्ट टू वंडर पार्क का निर्माण भी कबाड़ी के सामान का उपयोग कर किया जाएगा बता दें यह पार्क वेस्ट टू वंडर पार्क में खाली पड़ी 3 एकड़ भूमि पर बनेगा।

पार्क में भारतीय सिनेमा की दिखेगी कलाकृतियां

बॉलीवुड पार्क में भारतीय सिनेमा के इतिहास और इसके विकास को विभिन्न कलाकृतियों, मूर्तियों, अभिनेताओं के कटआउट को प्रदर्शित किया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक, बॉलीवुड पार्क जंगपुरा के एक पुराने पार्क में बनेगा।

बॉलीवुड पार्क एक ऐसा पार्क होगा जिसमें, पहली फिल्म ‘राजा हरिश्चंद्र’ से लेकर समकालीन फिल्मों तक के भारतीय सिनेमा के विकास को प्रदर्शित किया जाएगा और संभावना है कि हिंदी भाषा के साथ-साथ दूसरी भाषाओं की फिल्मों का भी इतिहास दिखाने की कोशिश की जाएगी। स्थायी समिति के अध्यक्ष बीके ओबेरॉय के अनुसार बॉलीवुड और वेस्ट टू वंडर पार्क राजस्व का एक अच्छा जरिया होगा।

25 करोड़ रुपए तक की आ जाएगी लागत

बताया जा रहा है कि बॉलीवुड पार्क के निर्माण में 25 करोड़ रुपए की लागत आएगी। जिनमें से 4 करोड रुपए पार्क के रख-रखाव और संचालन के लिए होंगे। एसडीएमसी के बागवानी विभाग के एक अधिकारी ने कहा, पार्क लगभग पांच एकड़ की भूमि में हो सकता है। उन्होंने कहा कि इसमें लोकप्रिय फिल्मों के दृश्य, गाने, अभिनेताओं के कट-आउट आदि प्रदर्शन किया जाएगा।

शहीद पार्क को भी मिली मंजूरी

बताया जा रहा है कि एसडीएमसी (SDMC) द्वारा आईटीओ स्थित शहीद पार्क (Shaheed Park) के निर्माण को भी मंजूरी दे दी गई है. मीडिया से बात करते हुए एक अधिकारी ने बताया कि, शहीद पार्क में ऐतिहासिक नेताओं और राजाओं की और भी प्रतिमाएं या प्रतिकृतियां बनाई जाएँगी. उन्होंने बताया, कि “हमारा लक्ष्य सुभाष चंद्र बोस, चाणक्य, चंद्रगुप्त मौर्य, सरदार पटेल आदि जैसी प्रमुख ऐतिहासिक शख्सियतों की प्रतिकृतियां बनाने का है. इन सभी को अपशिष्ट सामग्री से बनाया जाएगा.”

   
    >