अच्छी खबर! सरकार ने गाड़ियों में CNG और PNG किट लगाने की दी मंजूरी, चेक करें पूरी डिटेल्स

नई दिल्ली: देश में बीते कुछ समय से पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों से लोगों का हाल बेहाल हो गया था। हालांकि देश में पेट्रोल-डीजल की कीमत कुछ समय से स्थिर है, लेकिन अभी भी वैश्विक स्तर पर पेट्रोलियम की कीमत अधिक बनी हुई है। वही इसी बीच आम लोगों के लिए राहत भरी खबर है।

बता दें हाल ही में केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से जारी एक अधिसूचना में भारतीय बीएस 6 वाहनों में सीएनजी (CNG) और एलपीजी (PNG) किट लगवाने को मंजूरी दे दी गई है।

इसी के साथ ही कम भार वाले डीजल इंजनों (3.5 टन) को सीएनजी एवं एलपीजी इंजन में बदलने को अनुमति दे दी गई है।

केंद्र सड़क परिवहन मंत्रालय की ओर से भारत सरकार को भेजा गया था प्रस्ताव

कुछ समय पहले केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय (Central Road Transport Ministry) की ओर से इसके संबंध में भारत सरकार (Indian Government) को प्रस्ताव भेजा गया था। इस प्रस्ताव पर मंजूरी से पहले बीएस-6 उत्सर्जन मापदंडों के तहत मोटर वाहनों में सीएनजी और एलपीजी किट के रेट्रो फिटमेंट की इजाजत नहीं थी।

लेकिन अब भारतीय बीएस 6 वाहनों में सीएनजी और एलपीजी किट लगवाने को मंजूरी दे दी गई है। साथ ही 3.5 टन से कम भार वाले डीजल इंजनों को सीएनजी एवं एलपीजी इंजन में बदलने को अनुमति दे दी गई है।

अप्रूवल की 3 साल तक होगी वैधता

जारी अधिसूचना के अनुसार “जिन वाहनों में सीएनजी किट रेट्रो फिटमेंट किया जाएगा उनका अप्रूवल 3 साल के लिए मान्य होगा। 3 साल बाद इसे फिर रिन्यू कराया जा सकता है, साथ ही सीएनजी ऑपरेशन के लिए रेट्रोफिट अप्रूवल विशेष रूप से निर्मित वाहनों को दिया जाएगा।”

देश में बढ़ी सीएनजी कारों की मांग

देश में पेट्रोल डीजल की महंगी कीमतों की वजह से इलेक्ट्रॉनिक और सीएनजी कारों की मांग में तेजी से इजाफा हुआ है। बता दें सीएनजी एनवायरमेंट फ्रेंडली फ्यूल है और इससे पेट्रोल और डीजल इंजन के मुकाबले कार्बन मोनोऑक्साइड, हाइड्रोकार्बन जैसे हानिकारक धुओं का उत्सर्जन कम स्तर पर होता है।

Add Comment

   
    >