Connect with us

दिल्ली + एनसीआर

मां की एक सलाह ने बदल दी जिंदगी, एक साल मेहनत कर पहले प्रयास में बनी IAS अधिकारी

Published

on

दिल्ली की रहने वाली अनुज मलिक अपने काम करने के तरीके को लेकर हमेशा चर्चा में रहने वाली आईएएस अधिकारी हैं। उनके काम के अंदाज और कड़ी मेहनत के अलावा ईमानदारी की वजह से वह लोगों के बीच काफी लोकप्रिय रहती है।

2017 बैच की आईएएस अधिकारी अनुज के सफर के बारे में आज बात करेंगे और जानते हैं कि आखिर कैसे उन्होंने पहले प्रयास में ही यूपीएससी परीक्षा में सफलता हासिल की। दिल्ली  के लाजपत नगर की रहने वाली अनुज  की स्कूली शिक्षा दिल्ली स्थित एयरफोर्स बाल भारती स्कूल से हुई. स्कूल पूरी करने के बाद अनुज ने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की।

इंजीनियरिंग के बाद लिया यूपीएससी करने का फैसला

अनुज ने अफनी कॉलेज के आखिरी दिनों में सिविल सर्विस की तैयारी करने का फैसला किया और इंजीनियरिंग पूरी करने के बाद वह तैयारियों में जुट गई और साल भर तक घर पर रहकर तैयारी की।

मां ने दी जीवन बदलने वाली सलाह

अनुज मलिक अपने जीवन में सफलता के पीछे अपनी मां का अहम रोल मानती है। वह कहती है कि यूपीएससी की तैयारी के दौरान जब उन्होंने मनोविज्ञान विषय चुना तो कई लोगों ने एतराज जताया लेकिन उनकी मां ने उन्हें कहा कि अगर तुम्हारी रूचि मनोविज्ञान में है तो तुम उसी को लेकर आगे बढ़ो।

आखिरकार मां की सलाह मानकर अनुज ने मनोविज्ञान विषय के साथ ही तैयारी की और सिविल सेवा परीक्षा 2016 में ही 16वीं रैंक हासिल की।

पति खुद हैं आईएएस अफसर

अनुज मलिक के माता-पिता दोनों सरकारी सेवा में है। वहीं उनके पति गौरव सिंह सोगरवाल भी एक आईएएस अधिकारी हैं और गोरखपुर में ही सदर तहसील के एसडीएम है। इसके अलावा अनुज मलिक वर्तमान में उत्तर प्रदेश के खजनी में ज्वाइंट मजिस्ट्रेट और एसडीएम है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >