Connect with us

दिल्ली + एनसीआर

वर्ल्ड बैंक की नौकरी छोड़ सीबीएसई टॉपर बन गया IAS, सार्थक अग्रवाल की जबरदस्त प्रेरणादायक कहानी

Published

on

आज हम आपको कहानी बताएंगे दिल्ली के रहने वाले सार्थक अग्रवाल की। IAS सार्थक अग्रवाल (IAS Sarthak Agarwal) की कहानी बेहद खास है सार्थक अग्रवाल साल 2014 में सीबीएसई (CBSE) में पूरे भारत में 12वीं कक्षा में टॉप करने वाले छात्र थे। साल 2020 में सार्थक अग्रवाल ने यूपीएससी की परीक्षा में भी 17 वी रैंक हासिल करके यूपीएससी की परीक्षा पास कर लिया।

सार्थक अग्रवाल की शिक्षा की बात करें तो उनकी शिक्षा वसंत कुंज (Vasant Kunj) के दिल्ली पब्लिक स्कूल से हुई। उन्होंने 12वीं कक्षा में 99.6% अंक हासिल किए थे और इन अंकों के साथ उन्होंने पूरे भारत में नंबर एक का स्थान हासिल किया था। बारहवीं कक्षा के बाद सार्थक अग्रवाल ने दिल्ली विश्वविद्यालय (Delhi University) के प्रसिद्ध कॉलेज श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स (Shri Ram College of Commerce) से इकोनॉमिक्स ऑनर्स में ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त की।

सार्थक आगे की पढ़ाई करने के लिए ऑक्सफोर्ड चले गए और उन्होंने उसके बाद M.Phil की डिग्री प्राप्त की और वर्ल्ड बैंक में रिसर्च के तौर पर कार्य करने लगे। वर्ल्ड बैंक (World Bank) में काम करते हुए उन्होंने यूपीएससी की तैयारी करना शुरू कर दिया। साल 2020 यूपीएससी की परीक्षा में उन्होंने 17 वी रैंक हासिल करके आईएएस (IAS) पद को भी पा लिया है।

फ्री माइंड से की पढ़ाई

सार्थक अग्रवाल के पिता सुशील चंद्र एक बिजनेसमैन है। उनकी माता नीरज ग्रहणी है। सार्थक सोशल मीडिया फेसबुक आदि प्लेटफार्म से दूर रहते हैं। उन्होंने केवल 7 महीने की मेहनत की और ऐसा कुछ खास सीरियस होकर उन्होंने तैयारियों पर जोर नहीं लगाया। वह मूड के हिसाब से पढ़ते थे। उन्होंने एक टाइम टेबल भी नहीं बनाया हुआ था। किसी दिन ज्यादा पढ़ते और किसी दिन कम पढते थे। लेकिन उनकी मेहनत इतनी थी कि उन्हें भरोसा था कि वे यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा को पास कर लेंगे।

सार्थक अग्रवाल कहते हैं कि हमें क्षमता के अनुसार स्ट्रेटजी बनानी चाहिए। वे कहते हैं कि मैंने खुद फिक्स स्टडी मैटेरियल नहीं लिया था। वे कहते हैं कि हमें सोर्सेस से जानकारी जितनी मिलती है उसी के हिसाब से तैयारी करनी चाहिए। सार्थक अग्रवाल जब वर्ल्ड बैंक में रिसर्चर के तौर पर काम कर रहे थे तब उनका मन विश्व भर की इकोनामी में, भारत की पॉलिटिक्स और पब्लिक एडमिनिस्ट्रेटिव पर लगने लगा था। इसके बाद उन्होंने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी और फिर किताबें अखबार पढ़ कर अपनी तैयारी को और मजबूत बनाया और यूपीएससी की परीक्षा को पास किया।

दी यह सलाह

सार्थक अग्रवाल तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों को सलाह देते हुए कहते हैं कि हमें जरूरत के हिसाब से स्ट्रेटजी बनानी चाहिए। अगर हमें स्ट्रैटेजी में कभी बदलाव करने की जरूरत पडे तो हमें बदलाव भी करना चाहिए। हमेशा मन लगाकर पढ़ाई करनी जरूरी है। सार्थक कहते हैं कि जो लोग इंडिया के विभिन्न पहलुओं को जानने के लिए हमेशा उत्सुक रहते हैं उन लोगों को यूपीएससी की तैयारी करने में आसानी होती है। साथ ही सार्थक कहते हैं कि आंसर राइटिंग और मॉक टेस्ट सीरीज पर ध्यान देना सबसे ज्यादा जरूरी है। उसके साथ ही दिमाग को शांत रखना और भी ज्यादा जरूरी है। किसी के बताए हुए रास्ते पर ना चलकर अपने तरीके से तैयारी करनी चाहिए और रुचि रखने वाले विषयों पर हमेशा ध्यान देना चाहिए। अगर कुछ बातों पर ध्यान दिया जाए तो हम यूपीएससी की परीक्षा को पास कर सकते हैं।

   
    >