Connect with us

दिल्ली + एनसीआर

नौकरी छोड़ शुरू की मोमोज़ फैक्ट्री, आज है करोड़ों का कारोबार, मोमोज़ वाली मैडम के नाम से फेमस

Published

on

देश की राजधानी दिल्ली स्ट्रीट फूड के लिए मशहूर है, ऐसा कहा जाता है कि यहां कि गलियां चटोकड़े लोगों के स्वाद का पूरा ख्याल रखती है। अब स्ट्रीट फूड की बात शुरू हो गई तो हमारी फेहरिस्त काफी लंबी हो जाएगी लेकिन आज हम एक ऐसे स्ट्रीट फूड और उसको बनाने वाले की बात करेंगे जिनके स्वाद ने इन दिनों हर किसी को बांध रखा है।

हम बात कर रहे हैं पूजा महाजन की जो आजकल “मोमोज वाली मैडम” बनकर हर किसी के दिलों पर राज कर रही है। दरअसल पूजा महाजन के मोमोज दिल्ली में इन दिनों काफी लोगों द्वारा पसंद किए जा रहे हैं।

कैसे बनी पूजा से मोमोज वाली मैडम ?

पूजा महाजन ने कॉलेज के बाद 1998 में कॉरपोरेट वर्ल्ड की नौकरी पकड़ी लेकिन कुछ समय बाद ही उन्हें खुद का कारोबार शुरू करने का ख्याल आया।

2004 में नौकरी छोड़ उन्होंने गुड़गांव के डीएलएफ मॉल में बॉम्बे चौपाटी नाम से एक छोटा रेस्टोरेंट खोला। कुछ समय बाद यहीं उन्होंने मोमोज ट्रॉली शुरू कर दी। 2-3 साल मोमोज ट्रॉली चलाने के बाद 2008 में पूजा ने लोन लेकर दिल्ली के घिटोरनी में खुद की मोमोज फैक्ट्री लगाई।

फैक्ट्री लगाने के बाद अब हर रोज वहां हज़ारों मोमोज बनने लगे जिन्हें देशभर के रेस्टोरेंट में भेजा जाने लगा। पूजा बताती है कि आज उनकी फैक्ट्री में हर महीने करीब 10 से 12 लाख मोमोज बनते हैं जो देश के कोने कोने में भेजे जाते हैं। पूजा महाजन आज देश के करोड़पतियों के लिस्ट में शुमार है।

परिवार की पहली महिला जो कर रही है खुद का व्यवसाय

दरअसल, पूजा महाजन बताती है कि उनके लिए नौकरी छोड़ कर व्यवसाय शुरू करना आसान नहीं रहा, उन्हें शुरूआती दिनों में बिल्कुल भी ऑर्डर नहीं मिलते थे। वह बताती है समय के साथ लोग मेरे से जुड़ते गए और आज मेरे साथ करीब 2 दर्जन लोगों की एक टीम काम करती है। पूजा के माता-पिता दोनों शिक्षक हैं।

   
    >