कौन थी हमीदा, जिसने बनवाया था- हुमायूं का मकबरा, दिलचस्प है यह कहानी

वैसे तो मुगलों ने बहुत सारे मकबरे बनवाएं हैं, जिनमें ताज महल और लाल किले जैसे स्मारक खूब प्रसिद्ध हैं। इन स्मारकों को देश और विदेश से रोजाना कई लाख सैलानी देखने आते हैं। लेकिन ताज महल के अलावा भी दो ऐसे मकबरे हैं जो हूबहू ताजमहल की तरह बने हुए हैं। इनमें दिल्ली का सफरदरजंग का मकबरा, जिसे मुगल काल की अंतिम धरोहर कहा जाता है और दूसरा हुमायूं का मकबरा। आज हम आपसे इसी स्मारक की चर्चा करेंगे। (Who made Humayun’s Tomb)

मुगलों की आखिरी निशानी माना जाता है सफदरजंग का किला~ नायाब है खूबसूरती!

जब अंग्रेजों ने पूरी दिल्ली को चारों तरफ से घेर लिया था तब मुगल काल के अंतिम बादशाह बहादुरशाह जफर (Bahadur Shah Jafar) अपने सैनिकों के साथ निकल हुमायूं के मकबरे में आकर छिप गए थे, जो आज दिल्ली की सुंदरता का उद्योतक है। हुमायूं का मकबरा, हुमायूं की पत्नी हमीदा बानो बेगम (Hamida Banu Begum) (अकबर की मां) ने उनकी याद में बनवाया था। हमीदा ने इसे अपने पति हुमायूं की मृत्यु के बाद उनकी स्मृति के तौर पर यह मकबरा सन् 1572 में बनवाया था।

Who made Humayun's Tomb

हमीदा ने हुमायूं की मृत्यु के बाद, फारसी वास्तुकारों को बुलाया और उनसे कहा कि  बोला कि वह कुछ इतना सुंदर निर्माण करें कि आने वाले युगों-युगों तक लोग इसे देखते ही रहें, जिसके बाद यह जिम्मेदारी हुमायूं के बेटे अकबर ने ले ली। हुमायूं का मकबरा 8 वर्षों में बनकर तैयार हुआ था। जिसे बनाने में 1.5 मिलियन रुपय खर्च हुए थे .हुमायूं के मकबरे की बाहर की खूबसूरती हर किसी को अपनी तरफ आकर्षित कर लेती है। Who made Humayun’s Tomb

दिल्ली की वो 10 खास और अनोखी जगहें जहां आप फैमिली के साथ बना सकते हैं पिकनिक का प्लान!

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि