इस्लाम आक्रमणकारियों का पहला निशाना रहा था सोमनाथ मंदिर- एक बार नहीं 17 बार लुटी है भव्यता

गुजरात: राम मंदिर को सुप्रीम कोर्ट द्वारा हरी झंडी मिलने पर देश में ज्ञानवापी मस्जिद (Guanwapi Masjid) को लेकर काफी विवाद चल रहा है। कहीं ना कहीं इस विवाद का कारण इतिहास के मुस्लिम शासकों का वह रवैया है, जिसने हिंदुओं की आस्था को काफी ठेस पहुंचाई है। आज हम आपको इसी मामले में एक ऐसे स्थान के बारे में बताएंगे जिसको मुस्लिम शासको द्वारा कई बार लूटा और तोड़ा गया। लेकिन आज भी वो शिव की आस्था और श्रद्धा का पहला स्थान माना जाता है। (Somnath Mandir Invasion Story)

कई मुस्लिम शासको द्वारा मंदिर को लूटा गया

Somnath Mahadev Mandir

जी हां, हम बात कर रहे हैं सोमनाथ महादेव मंदिर (Somnath Mahadev Mandir) के बारे में जो 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। सोमनाथ मंदिर को कई बार लूटा गया था। इतिहास भी इस बात का कई बार गवाह रहा है कि जो भी मुस्लिम शासक आए उन्होंने इस मंदिर को बार-बार लूटा। इतिहास में कभी सोने से लदा हुआ ऐतिहासिक सोमनाथ मंदिर (Somnath Mandir) वक्त-वक्त पर विदेशी लोगों के जरिए लूटा गया था। कभी इसे मोहम्मद गजनवी ने लूटा था, तो कभी अलाउद्दीन खिलजी जैसे तानाशाहों ने मंदिर को तोड़ा था। महमूद गजनवी ने सन् 1024 में अपने करीब 5000 साथियों के साथ सोमनाथ मंदिर (Somnath Mandir Invasion) पर हमला किया था और मंदिर में सोने, चांदी, हीरा और अमूल्य चमकीले पत्थरों की संपत्ति को लूट कर पूरी तरह से नष्ट कर दिया था। जिसके बाद गुजरात के राजा भीम और मालवा के राजा भोज ने इसका पुननिर्माण करवाया था और सन् 1297 में दिल्ली सल्तनत में गुजरात पर कब्जा किया तो पांचवी बार इस मंदिर को गिरा दिया गया। वहीं, 1706 में आखिरी बार मुगल बादशाह औरंगजेब ने इस मंदिर को गिराया।

17 बार लूटा गया सोमनाथ मंदिर

इतिहास की माने तो सोमनाथ महादेव को 17 बार लूटा गया। आज मंदिर को हम देख रहे हैं उसे भारत की स्वतंत्रा के पश्चात 1948 के उस वक्त के गृह मंत्री लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल ने बनवाया जिसे 1 दिसंबर 1955 को भारत के राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने राष्ट्र को समर्पित किया था। जिसके बाद मंदिर को बढ़ाया गया और गर्भगृह के साथ दो मंडपों को जोड़ा गया। इस मंदिर के दो मंडप के साथ 1995 में शकंर दयाल शर्मा ने राष्ट्र को समर्पित किया था जिसे अब सोने से सजाया जा रहा है। जी हां, एक बार फिर मुस्लिम शासक के जरिए नष्ट करने बाद अब मंदिर का स्वर्ण इतिहास दोहराया जा रहा है। वहीं, अयोध्या में बाबरी मस्जिद की जगह पर भगवान श्री राम का भव्य मंदिर बनाया जा रहा है। Somnath Mandir Invasion Story

सोमनाथ मंदिर के ट्रस्टी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

क्या आप जानते हैं कि आज सोमनाथ मंदिर ट्रस्ट के ट्रस्टी कौन है? दरअसल, इस मंदिर के ट्रस्टी खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हैं। उन्हीं के मार्गदर्शन में सोमनाथ मंदिर को एक बार फिर सोने से मढ़ा जा रहा है। जानकारी के अनुसार सोमानथ मंदिर को नए स्वरूप में ठीक है वैसे ही सजाया जा रहा है जैसे आज से 1000 साल पहले यह मंदिर था। सोमनाथ मंदिर को अब पूरी तरह सोने के कलश से मढ़ा जा रहा है। सोमनाथ मंदिर के गर्भ गृह के साथ-साथ अब मंदिर में लगे तोरण और खंभों को भी धीरे-धीरे सोने से मढ़ा जाएगा। यह मंदिर वैसा ही वैभवशाली हो जाएगा जैसा आज से कई हजार साल पहले था।

गुजरात के मगनलाल नेत्रहीन हैं, मगर हुनर में देते हैं अच्छे-अच्छे को मात!

 

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि