Connect with us

हरियाणा

IPS श्वेता धनखड़ जिनका विवादों से रह गया गहरा नाता, जहां पोस्टिंग वहां खोल देती है मोर्चा

Published

on

किसी भी राज्य में सरकारी अधिकारियों की सरकार से खींचतान की खबरें आती रहती है, जहां अधिकारी को तबादले का दंश झेलना पड़ता है वहीं सरकारों के लिए अधिकारी पर किसी ना किसी तरह दबाव बनाना आसान हो जाता है।

राजस्थान  में भी पिछले काफी समय से एक आईपीएस श्वेता धनखड़ काफी चर्चा में है जिन्हें कुछ समय पहले ही नागौर एसपी पद से हटाकर पुलिस उपायुक्त ट्रैफिक के पद पर जयपुर लगाया गया है। आइए जानते हैं क्यों इतनी चर्चा में रहती है आईपीएस श्वेता धनखड़।

कौन हैं श्वेता धनखड़ आईपीएस?

श्वेता धनखड़ को राजस्थान पुलिस के काबिल अधिकारियों में से एक माना जाता है। हरियाणा की रहने वाली श्वेता का जन्म 1 नवंबर 1983 को हुआ. श्वेता ने पढ़ाई में अर्थशास्त्र में एमए किया हुआ है। वह 2009 बैच की राजस्थान कैडर की आईपीएस अधिकारी हैं। वहीं 2009 में श्वेता धनखड़ की शादी राजस्थान कैडर के आईएएस अधिकारी कुमारपाल गौतम से हुई।

नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल से हुई थी नोकझोंक

आईपीएस श्वेता धनखड़ के नागौर तैनाती के दौरान सांसद हनुमान बेनीवाल इनसे खासा नाराज थे और उन्होंने श्वेता के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। कहा जाता है कि बेनीवाल की नाराजगी के चलते ही श्वेता का तबादला किया गया। बेनीवाल ने एसपी पर सटोरियों से मिलीभगत के आरोप लगाने के बाद राजस्थान डीजीपी से भी शिकायत की थी।

जोधपुर अस्पताल में विजिट के दौरान हुई आगबबूला

2016 में आईपीएस श्वेता धनखड़ जोधपुर में सीआईडी एसएसबी एसपी पद की जिम्मेदारी संभाल रही थी, ऐसे में वह जोधपुर के महात्मा गांधी अस्पताल में ईसीजी जांच के लिए दौरे पर गई जिस दौरान वहां मौजूद कर्मचारियों पर रौब झाड़ा और दो कर्मचारियों को गिरफ्तार तक करवा दिया। वहीं आईपीएस धनखड़ एक बार  सरकारी अस्पताल में वीआईपी सुविधा नहीं मिलने पर भी भड़क गई थी।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >