Connect with us

भारत

विंग कमांडर अभिनंदन ने ऐसे दिखाया पाकिस्तान को आईना व 48 घंटो में की घर वापसी,जानें! पूरी कहानी

Published

on

आज हम आपको भारतीय वायुसेना के एक ऐसे जांबाज जवान की कहानी बताएंगे। जिन्होंने अपने हौसलों से पाकिस्तान को भी धूल चटा दी। हम बात कर रहे हैं विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान की। विंग कमांडर अभिनंदन का जन्म 21 जून 1983 को तमिलनाडु के कांचीपुरम में हुआ। अभिनंदन के पिता भारतीय वायु सेना के एयर मार्शल पद से रिटायर है, उनकी मां डॉक्टर है। अभिनंदन ने नेशनल डिफेंस एकेडमी से ग्रेजुएशन किया और उसके बाद कॉम्बैट स्ट्रीम से भारतीय वायु सेना में आए।

19 जून 2004 को भारतीय वायु सेना को उन्होंने ज्वाइन किया। बाद में बठिंडा और हलवाड़ा में ट्रेनिंग के बाद 19 जून 2006 को वह फ्लाइट लेफ्टिनेंट पद पर कार्य करने लगे। 8 जुलाई 2010 को उन्हें स्क्वाड लीडर के तौर पर प्रमोट किया गया। विंग कमांडर अभिनंदन मिग-21 जहाज से पहले सुकोई-30 एमकेआई जहाज के पायलट थे। 19 जून 2017 को उन्हें विंग कमांडर के पद पर प्रमोट किया गया था।

जीवन का है एक बेहतरीन किस्सा

विंग कमांडर अभिनन्दन से जुड़ा किस्सा हम सभी लोग जानते हैं। यह बात है साल 2019 की 14 फरवरी 2019 को पुलवामा में एक ब’ म धमाका हुआ। इस ब’ म धमाके में भारतीय सेना के 40 जवान श’हीद हो गए थे। इस धमाके के पीछे पाकिस्तान के आ’तंकी संगठन जैश ए मोहम्मद का हाथ था। इस हमले के जवाब में भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी 2019 को पाकिस्तान में घुसकर एयर स्ट्रा’इक की। एयर स्ट्राइक में मिराज 2000 जहाज का इस्तेमाल किया गया। इस एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान बौखला गया था, भारत ने पाकिस्तान में घुसकर दूसरी बार पाकिस्तान के आ’तंकी ठिकानों को खत्म कर दिया था। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान की थू थू होने लगी थी। पाकिस्तान ने इस एयर स्ट्राइक को पहले तो मानने से ही इंकार कर दिया था। लेकिन इसके बाद बौखलाए पाकिस्तान ने 27 फरवरी को भारत में घुसकर हवाई ह’मला करने की कोशिश थी। पाकिस्तान ने अपने विकसित जहाज एफ-16 से भारत पर वार करना शुरू किया।

जिसके जवाब में भारतीय वायुसेना ने अपने मिग 21 हवाई जहाज से पाकिस्तान का जहाज मा’र गिराए। बाकी पाकिस्तानी जहाज डर कर वापिस चले गए थे। इस दौरान अभिनंदन भी भारतीय जहाज को उड़ा रहे थे, उनका जहाज दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिसके बाद पैराशूट से अभिनंदन पाकिस्तान के कब्जे वाले इलाके में चले गए। वहां उतरने के बाद उन्होंने वहां किसी व्यक्ति से पूछा क्या वह भारत में है, तब उन्होंने झूठा कहा कि वे भारत में है। लोगों ने अभिनंदन को उनके सेना की कपड़ों पर लगे तिरंगे से पहचान लिया था, अभिनंदन ने जब देखा कि लोग थोड़ा सा अलग है तो उन्होंने वहां भारतीय स्लोगन बोलना शुरू किया जिसके जवाब में लोगों ने पाकिस्तानी स्लोगन बोला।

अभिनंदन समझ गए कि वह पाकिस्तान में है,इसके बाद अभिनंदन 500 मीटर दूर भागे और वहां मौजूद एक तालाब में सभी कागज जो भारतीय वायु सेना की जानकारी को रखते थे उन कागजों को पानी में नष्ट कर दिया। इसके बाद पाकिस्तान के गांव वालों ने अभिनंदन को पकड़ लिया और पाकिस्तान सेना को सौंप दिया। पाकिस्तान सेना ने अभिनंदन को बुरी तरीके से प्रताड़ित किया।

48 घण्टो में छूटकर वापिस वतन लौटे अभिनन्दन

भारत की कूटनीति और दबाव के बाद अभिनंदन को पाकिस्तान छोड़ने पर मजबूर हो गया। केवल 48 घंटे के भीतर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने खुद यह घोषणा की कि वह अभिनंदन को छोड़ देंगे। 48 घंटे के भीतर अभिनंदन को वाघा बॉर्डर पर भारत को सौंप दिया गया। अभिनंदन को इस बहादुरी के लिए वीर चक्र से भी सम्मानित किया गया। वीर चक्र सेना में तीसरा सर्वोच्च पुरस्कार है।

अभिनन्दन बन गए लोगो के आइडियल

आपको बताएं अभिनंदन के पाकिस्तान के पास चले जाने के बाद लोगों में गुस्से का माहौल था। लोग लगातार भारतीय सरकार से जवाब मांग रहे थे कि अभिनंदन को कब वापिस वतन लौटेंगे। 48 घंटे के अंदर भारतीय जवान को पाकिस्तान सेना ने छोड़ दिया। अभिनंदन के भारत आने के बाद लोगों ने भारत की उनकी वीरता का जश्न मनाया। साथ ही आम जनता में अभिनंदन का मुछ का स्टाइल बहुत मशहूर हुआ।लोगो ने उनके जैसी मूंछ रखना शुरू कर दिया। भारत के कई बड़े बड़े ब्रांड ने भी अभिनंदन के मूछ वाले स्टाइल के साथ विज्ञापन देने शुरू कर दिए। लोगों में अभिनंदन स्टाइल बहुत चर्चित हुआ।

अभिनंदन के भारत आने के बाद उन्हें कई दिनों तक आराम करने की सलाह दी गई। बाद में ट्रेनिंग के बाद उन्होंने एक बार फिर भारतीय वायुसेना को ज्वाइन कर लिया है। वह अभी भारत की रक्षा के लिए तत्पर है।

हमें हमेशा भारतीय जवान का आदर व सम्मान करना चाहिए। भारतीय सेना के जवान अपनी जान की बिना परवाह के भारत और हमारी रक्षा कर रहे हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए हम सभी को सेना का सम्मान करना चाहिए।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >