Connect with us

केरल

6 महीने के बेटे को लेकर सड़क पर गुजारे दिन, बेची शिकंजी…आज 31 की उम्र में बनी सब इंस्पेक्टर

Published

on

आज हम आपको एक ऐसी महिला की कहानी बताएंगे जिन्होंने दुख और पीड़ा के अथाह सागर को पार कर सामाजिक बंधनों को चुनौती देते हुए संघर्षों की लहरों के बाद एक ऐसा मुकाम हासिल किया जिसे सुनने वाला हर शख्स गर्व महसूस करता है।

हम बात कर रहे हैं केरल के तिरुवंतपुरम में 31 वर्षीय एनी शिवा की जो हाल में सब इंस्पेक्टर पद पर नियुक्त हुई है।

घर वालों के खिलाफ जाकर की शादी

एनी शिवा की बात करें तो जब वह काजीरामवुलम के एनएच सरकारी कॉलेज में पढ़ रही थी उस दौरान एक लड़के से प्यार कर बैठी और कॉलेज के पहले साल ही उन्होंने अपने घरवालों के सामने शादी का प्रस्ताव रखा।

लेकिन एनी के घर वाले उनकी शादी के खिलाफ थे जिसके बाद उन्होंने घरवालों के खिलाफ जाकर शादी कर ली। वहीं अपने पहले बच्चे के जन्म के बाद उनके पति ने उन्हें छोड़ दिया जिसके बाद एनी ने घर लौटना चाहा पर घर वालों ने उन्हें जगह नहीं दी।

सड़क पर दिन बिताए, शिंकजी बेचकर भरा पेट

घर से बेदखल होने के बाद एनी अपने 6 महीने के बेटे को लेकर दर-दर की ठोकने खाने लगी। उन्होंने सड़क पर एक शेड के नीचे रहकर जिंदगी बिताई और वरकला शिवगिरी आश्रम के स्टॉल पर नींबू पानी और आइसक्रीम इसी बीच एनी को किसी ने सब इंस्पेक्टर की परीक्षा के बारे में बताया।

दिन रात मेहनत कर बनी सब इंस्पेक्टर

एनी शिवा की बात करें तो जिस व्यक्ति ने उन्हें सब इंस्पेक्टर की परीक्षा के बारे में बताया, उसी ने एनी की मदद भी की। इसके बाद एनी ने ग्रेजुएशन की पढ़ाई की और साल 2014 में त्रिवेंद्रमपुरम में कोचिंग सेंटर में दाखिला लेकर तैयारी करने लगी। साल 2019 में एनी ने सब इंस्पेक्टर की परीक्षा को पहले प्रयास में पास कर लिया। लगभग 18 महीनों की ट्रेनिंग के बाद अब वह वरकला गांव के पुलिस स्टेशन में सब इंस्पेक्टर के तौर पर कार्यरत है।

एनी शिवा ने समाज के सामने एक मिसाल पेश की। एनी एक उदाहरण है कि अगर एक महिला अगर कुछ ठान ले तो वह जीवन में कुछ भी हासिल कर सकती है। उन्होंने साबित किया है कि जीवन में कई परेशानियां और दुख आते हैं लेकिन मेहनत की जाए तो कुछ भी नामुमकिन नहीं है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >