Connect with us

खबरे

शीशराम ओला पर टिप्पणी से राजस्थान में भूकंप, पुत्रवधु आकांक्षा बोली बड़ों की इज्जत करना सीखो

Published

on

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव भाटिया की एक टीवी चैनल पर डिबेट के दौरान की गई टिप्पणी को लेकर घमासान मच गया है। भाटिया ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री और शेखावाटी के कद्दावर जाट नेता रहे स्व. शीशराम ओला को लेकर एक टिप्पणी की थी जिसको लेकर अब भाटिया को विरोध झेलना पड़ रहा है।

भाटिया ने एक ट्वीट के माध्यम से लिखा कि “जून 2013 में कांग्रेस के मंत्रिमंडल विस्तार के समय 85 साल के शीशराम ओला जी को शामिल किया गया था. जिनका हिल गया था पुर्जा, उनमें मनमोहन जी ढूंढ रहे थे ऊर्जा.”

भाटिया के इस ट्वीट के वायरल होने के बाद मामले ने तूल पकड़ लिया और मुख्यमंत्री गहलोत, सचिन पायलट, पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा समेत राजस्थान कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं और जाट नेताओं ने इस ट्वीट पर कड़ा एतराज जताया।  हालांकि गौरव भाटिया ने अपना ट्वीट हटा लिया लेकिन विवाद तब तक बढ़ चुका था।

गौरतलब है कि झुंझुनूं जिले के लौह पुरुष पदमश्री स्वर्गीय शीशराम कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे हैं। एक लंबे राजनीतिक करियर में ओला की पहचान एक जाट नेता और किसान नेता के तौर पर रही।

ये भी पढ़ें : शेखावाटी के लौ’ह पुरुष कर्मठ नेता पदमश्री शीशराम ओला के ग्राम पंचायत से संसद तक के सफर की कहानी

भाटिया की टिप्पणी सामने आने के बाद राजस्थान के जाट नेताओं में भी गहरा रोष है और भाटिया से बयान वापस लेकर माफी की मांग कर रहे हैं।

बड़ों की इज्जत करना सीखो !

भाजपा प्रवक्ता भाटिया के ट्वीट पर जवाब देते हुए शीशराम ओला की पुत्रवधु और महिला कांग्रेस की सचिव आकांक्षा ओला ने तीखी प्रतिक्रिया दी है।

आकांक्षा ने भाटिया को बड़ों की इज्जत करने की नसीहत देते हुए कहा कि, 2009 में आडवाणी 81 साल में पीएम पद की दावेदारी कर रहे थे और 2004 तक वाजपेयी 80 की उम्र तक पीएम पद पर रहे, जिनकी वापसी का सपना कांग्रेस पार्टी ने ध्वस्त किया।

जेपी नड्डा मांगे राजस्थान की जनता से माफी !

वहीं राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गौरव भाटिया की टिप्पणी की कड़ी भर्त्सना करते हुए लिखा है कि,

“स्वर्गीय श्री शीशराम ओला जी ने 60 सालों से अधिक समय तक सामाजिक एवं राजनीतिक क्षेत्र में रहकर किसानों के हितों की रक्षा की। वे केन्द्र एवं राज्य दोनों सरकारों में अनेकों बार कैबिनेट मंत्री रहे। 1968 में उन्हें समाजसेवा के लिए पद्मश्री सम्मान मिला।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव भाटिया द्वारा श्री ओला पर की गई टिप्पणियों की मैं भर्त्सना करता हूं। इससे प्रदेश की जनता में भारी आक्रोश पैदा हुआ है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को अविलंब राजस्थान की जनता से माफी मांगनी चाहिए”। इसके अलावा पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने भी भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता की टिप्पणी को अमर्यादित और दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।

भाजपा का इतिहास किसान विरोधी?

गौरव भाटिया के इस ट्वीट पर राजस्थान कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा ने भी प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा की नीति पर भी सवालिया निशान लगा दिए।

डोटासरा ने ट्वीट कर लिखा कि “पद्मश्री के सम्मान से सम्मानित, किसानों के गौरव रहे स्व. शीशराम जी ओला के बारे में की गई यह टिप्पणी बेहद शर्मनाक और निन्दनीय है. सतीश पूनिया जी क्या आप भी आपकी पार्टी के इन सज्जन महानुभाव के ऐसे घटिया विचारों से सहमत हैं? आखिर किसान कौम से इतनी नफरत क्यों है भाजपा को?”

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >