Connect with us

खबरे

राजस्थान पुलिस में बिहार की बेटी का जलवा, IPS नीना सिंह बनी पहली महिला डीजी

Published

on

राजस्थान पुलिस के इतिहास में बीते रविवार को एक गौरवशाली अध्याय जुड़ गया. 1989 बैच की आईपीएस अधिकारी नीना सिंह को महानिदेशक (डीजी) बनाया गया है जो इस पद तक पहुंचने वाली राज्य की पहली महिला पुलिस अधिकारी बनी। नीना सिंह को हयूमन राइट्स एंड एंटी ह्यूमन ट्रेफिकिंग डीजी प्रमोशन मिला है।

नीना सिंह वर्तमान में अतिरिक्त महानिदेशक (एडीजी) रैंक पर अपनी सेवाएं दे रही थी। वहीं इससे पहले वह सीबीआई (संयुक्त निदेशक) की जिम्मेदारी भी संभाल चुकी है।

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से पढ़ी है नीना सिंह

बिहार के पटना की रहने वाली नीना सिंह का जन्म 11 जुलाई 1964 को हुआ। 1989 बैच की राजस्थान कैडर की आईपीएस अधिकारी है। इससे पहले वह मणिपुर कैडर में थी।

पटना वुमन्स कॉलेज से ग्रेजुएट नीना ने दिल्ली के जेएनयू से मास्टर्स डिग्री हासिल की जिसके बाद आगे पब्लिक ए​डमिन की पढ़ाई के लिए यूके की हार्वर्ड यूनिवर्सिटी  चली गई।

नीना सिंह के पति रोहित सिंह सीनियर IAS ऑफिसर हैं जो फिलहाल केंद्र सरकार में अपनी सेवाएं दे रहे हैं, इससे पहले कोरोना काल में वह राजस्थान सरकार में स्वास्थ्य सचिव पद पर थे।

गृह मंत्रालय ने दिए कई सेवा पदक

आईपीएस नीना सिंह इससे पहले केंद्र सरकार में प्रतिनियुक्ति पर सेवाएं दे चुकी है। वह पीएनबी घोटाले और नीरव मोदी सहित महत्वपूर्ण मामलों की जांच में शामिल रही। इसके अलावा नीना सिंह सिरोही एसपी अजमेर रेंज आईजी सहित विभिन्न पदों पर रह चुकी है।

अपने कार्यकाल के दौरान केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से नीना सिंह को कई सेवा पदक से सम्मानित किया। वहीं नीना सिंह को राष्ट्रपति पुलिस पदक से भी नवाजा जा चुका है।

नोडल विजेता के साथ किया शोध

अपने कॉलेज के दौरान आईपीएस नीना सिंह ने प्रोफेसर अभिजीत बनर्जी और प्रोफेसर एस्थर डुफ्लो के साथ बतौर नोडल अधिकारी शोध भी किया है।

   
    >