Connect with us

खबरे

थम जाएगी वाहनों की रफ्तार- राजस्थान में 2500 पेट्रोल पंप हो जाएंगे शट डाउन? हो चुकी है शुरुआत!

Published

on

Rajasthan Petrol pumps Shut Down

Rajasthan: देश में पेट्रोल और डीजल की चर्चा सुर्खियों में सबसे ज्यादा रहती है। इन्हीं चर्चाओं के बीच आज राजस्थान (Rajasthan Petrol pumps Shut Down) के पेट्रोल पंप खूब चर्चा का विषय बने हुए हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार आज शाम प्रदेश में 2500 पेट्रोल पंप बंद हो सकते हैं। पेट्रोलियम कंपनियों के नए नियमों और राशनिंग से पंंपों पर पेट्रोल और डीजल स्टॉक खत्म हो गया है, जिसके कारण इन पेट्रोल पंप मालिकों के लिए उपभोक्ताओं को शाम तक तेल प्राप्त करवाना मुश्किल हो गया है। ऐसे में जहां पेट्रोल पंप को बंद करने का संकट गहरा गया है। वहीं, पेट्रोलियम कंपनियों के नियमों के खिलाफ आक्रोश की ज्वाला भी धहक चुकी है।

पेट्रोल और डीजल का संकट सबसे अधिक एचपीसीएल (HPCL) और बीपीसीएल (BPCL) के पेट्रोल पंप पर मंडरा रहा है। रूस और यूक्रेन युद्ध (Russia-Ukraine Crisis) से बढ़ी पेट्रोल डीजल की कीमतें कम करने के लिए जब से केंद्र सरकार ने एक्साइज ड्यूटी को कम किया है, तब से इन कंपनियों ने तेल की राशनिंग यानी अवैध रूप से पेट्रोल को स्टोर करना शुरू कर दिया है, जिसके कारण पेट्रोल पंप को मांग के अनुसार पेट्रोल और डीजल नहीं मिल पा रहा है। जिसके कारण पेट्रोल पंप संचालकों में कंपनियों के प्रति आक्रोश की ज्वाला तीव्र हो रही है।

इलेक्ट्रिक बस और गाड़ियों के बाद अब लांच होगा ई- ट्रैक्टर, जानें परिवहन मंत्री का पूरा प्लान!

खबर के अनुसार, प्रदेश में पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल-डीजल की समस्या से सैकड़ों पेट्रोल पंपों (Rajasthan Petrol pumps Shut Down)से तेल की सप्लाई बंद हो गई है, जिसकी शुरुआत सबसे पहले झुंझुनूं (Jhunjhunu) जिले से हुई है। यहां कईं जगह पेट्रोल पंप बंद हो चुके हैं। वहीं, इसके अलावा जयपुर (Jaipura) के सीतापुरा (SitaPura) सहिता ग्रामीण इलाकों के 150 से अधिक पेट्रोल पंप पर पेट्रोल और डीजल खत्म होने की कगार पर आ पहुंचा है। पूरे प्रदेश की बात करें तब तकरीबन 2500 पेट्रोल पंप संचालकों के सामने तेल आपूर्ति का संकट तेजी से मंडरा रहा है।

वहीं इस बाबत, तेल कंपनियों की नीतियों के विरुद्ध राजस्थान पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने प्रदर्शन करना शुरू कर दिया है। इस मामले में एसोसिएशन अध्यक्ष सुनीत बगई और सचिव शशांक कौरानी के द्वारा केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री हरदीप पुरी को लेटर लिखा गया है, जिसमें सप्लाई डिमांड के मुताबिक मांग पूरी करने का आग्रह किया गया है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >