6 साल के मासूम ने धारण की पिता की पगड़ी, मासूम के ऊपर आई कईं जिम्मेदारियां

Alwar: बच्चों पर मां-बाप का हाथ होना उतना ही जरूरी है जितना एक इंसान के लिए खाना और पानी। लेकिन राजस्थान (Rajasthan) के अलवर शहर में स्थित राजगढ़ कस्बे में 3 तीन बच्चों के सर से उनके मां-बाप का हाथ उठ गया। इन बच्चों के पिता के देहांत के बाहरवें दिन उनके छोटे बेटे लेखराज को उसके पिता की पगड़ी पहनाई गई तो राजगढ़ (Rajgarh) कस्बे सहित पूरे अलवर शहर की आंखें नम हो गई। 6 साल के लेखराज के ऊपर इतनी से उम्र में ऐसा हो गया कि देखते ही देखते वह बड़ों की श्रेणी में आ बैठा। अब लेखराज पर उसकी 8 साल की चेतना और 4 साल की काजल की जिम्मेदारी है जो उसकी बहनें हैं।

सड़क हादसे में गई जान

दरअसल, अलवर शहर के राजगढ़ में आज से ठीक 12 दिन पहले एक ट्रक ने ऑटो में सवार हरिराम उनकी पत्नी उनका बेटा डब्लू और बहू मीरा को कुचल दिया था। डब्लू के तीन बच्चे हैं। जिनमें सबसे बड़ी बेटी 8 साल की चेतना से 6 साल का लेखराज और 4 साल की काजल है। जब इस हादसे के बारे में डब्लू के सहयोगियों और साथ काम करने वाले लोगों को पता चला तो अलवर (Alwar) से लेकर जयपुर तक जैसे मदद करने की होड़ सी लग गई।

10 दिन, 10 लाख की रकम

केवल 10 दिन के भीतर डब्लू के सहयोगियों ने 10 लाख जुटा लिए और उस 10 लाख की रकम की तीन एफडी कर तीनो भाई बहन में बराबर बांट दी। इस एफडी के दस्तावेज आज पिता के बाहरवें के दिन लेखराज और उनके परिवार के सदस्यों को सौंपे गए हैं। इतना ही नहीं, टेंट डीलर्स एंड डेकोरेशन सोसाइटी के अध्यक्ष रवि जिंदल ने बताया कि अगर तीनों बच्चों को किसी अन्य तरीके की समस्या होती है तो वह उनका समाधान करेंगे और लगातार उनके संपर्क में भी रहेंगे।

जल’ती हुई ज्योत को खुद अपने हाथों में लेकर प्रकट हुई अलवर की करणी माँ,श्राप से मुक्ति की कहानी

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि