Connect with us

बाड़मेर

राजस्थान रा रॉबिन हुड बलवंत सिंह बाखासर उर्फ़ पछम री कहाणी

Published

on

बलवंत सिंह बाखासर रो जलम बाड़मेर जिले रै बाखासर गांव में चौहाणां री साखा नाडौल में हुयौ।ड’केतां नैं कुण सपूत केवै? पण बाखासर उआं ड’कैतां में हा जकां जनता री सायता ई घणी करी।बाखासर उआंरी गोत्र कोनी ही, गांव रो नांव हो।वांरौ घणकरौ जीवन सिंध अर थर री भौम माथै ई खूट्यौ।बावन गांव री जागीर उणा रै पुरखां नैं जोधपुर स्टेट दीन्हीं।बतावे के बलवंत सिंह कदैई गरीब-गुरबै नैं परेसान नीं करया।वांरौ ब्याह कच्छ रै विजेपासर गांव में जाड़ेजां में हुयौ।

लोग बतावै के जद सांचौर मेळौ भरीजतो उण टेम बलंवत सिंह मेळै नैं भै सूं मुगत राखण बाबत फेरौ देंवता।बाड़मेर-जैसलमेर, सिंध, कच्छ आद जिग्यां उंआंरी तकड़ी धाक ही।आज ई लोगां सूं उंआरी गाथावां सुणण में मिलै।बतावै के उण दौर में सिंध रै खेतर में डा’कूआं री एक मोटी खेप तैयार हुयेडी़ ही अर लोगां नैं परेशान करणौ ई वांरौ एक काम हो।बलवंत सिंह आं सबां सूंc।इण कारण थर खेतर रा मिनखां बिचै वांरौ जब्बरौ आदर हो।वे इलाके भर में रॉबिनहुड बण्येडा़ हा।

बतावै के एकर मिठी पाकिस्तान में मुसलमानां 100 गांया नैं चुरा प्रा दौड़ ग्या।बलवंत सिंह नैं खबर मिळी अर वै पूगग्या रखसारथ।अर जब्बर मुठ’भे’ड़ हुयी अर वे गांयां नैं छुडा लाया।एक और किस्सौ बतावे के चौहटण(बाड़मेर) में मोहम्मद हुसैन नाम रौ एक कु’ख्यात लुटे’रौ हो जिण माथै भैंकर आरोप हा।बतावै के बाखासर अर हूसैन रे आपस में मुठ’भे’ड़ हुई किणी घटना माथै अर हुसैन उण मु’ठ’भेड़ में मा’रयौ ग्यौ।

सिंध में बलवंत सिंह रो आणौ जाणौ सामान्य हो।वे कई बारातां नैं दंग पार करावंता।इण कारण सिंध-अमरकोट रो रास्तौ वां वास्तै सीकर-पिपराली होयेडौ़।इकोतर रे जुध री जोजना सरू हुयी।भवानी सिंह नैं मेडम गांधी सिंध री कमाण सूंपी।ब्रिगेडियर सिंह नैं किणी बाखासर रौ पतौ दियौ के ओ आदमी आपरी जब्बरी सायता कर सकै।

अर इण भांत वे इकोतर रै जुध में महताऊ भुमिका निभायी।भवानी सिंह बलवंत सिंह नैं एक बटालन अर चार जोंगा जीपां सूंप दी अर इण भांत दिसूंबर 1971 रे एक परभात वां छाछरो अटेक कर दीन्हौ।अर इण जुध में बाखासर री जब्बरी सायता नैं सोध कर भारत सरकार वां पर आरोपित सगळा केस पाछा ले लीन्हा।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >