‘नेमाराम अमर रहें’- हजारों लोगों के हुजूम के साथ पंचतत्व में विलीन हुआ बाड़मेर का बेटा!

BARMER: करौली के हिंडौन शहर (karauli Hindaun City) में होमगार्ड जवान नेमाराम (barmer Jawan Nemaram dead) की एक दुर्घटना में मौ’त हो गई थी। मंगलवार उनका पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव बाड़मेर (Barmer) के गिराब (Girab) में पहुंचा। जवान के अंतिम दर्शन करने के लिए लोगों की भीड़ इक्ट्ठा हो गई थी। जवान को देख हर गांववासी बिलखता नजर आया। पूरे परिवार का रो-रोकर बुरा हाल है। मां, दादी और पिता की रो-रोकर हालत बेसुध हो गई है। जवान की अंतिम विदाई के दौरान पूरा गांव- नेमाराम अमर रहें, अमरे रहें के स्वरों से गूंज रहा था। गांववालों की मांग है कि नेमाराम को शहीद का दर्ज दिया जाए तथा उनके परिवार को आर्थिक सहायता प्राप्त करवाई जाए।

बाड़मेर के गिराब के रहने वाले नेमाराम हिंडौन सिटी करौली (karauli Hindaun City) में होमगार्ड की नौकरी करते थे। बीते सोमवार की सुबह अवैध रूप से सैंड स्टोन के ब्लॉक ले जा रहे ट्रक को खनिज विभाग (mineral department) की टीम ने जब्त कर चौकी ले जाने के निर्देश दिए। ट्रक की निगरानी के लिए उसमें ड्राइवर के साथ होमगार्ड जवान नेमाराम सहित अन्य दो होम गार्ड्स को बिठा दिया गया। ट्रक के आगे और पीछे खनिज विभाग की गाड़ियां चल रही थीं।

nemaram

इसी बीच ट्रक ड्राइवर ने उन्माद में आकर पहले तो आगे चल रही खनिज विभाग (barmer Jawan Nemaram dead in truck accident) की गाड़ी को टक्कर मारी, इसके बाद जब जवान नेमाराम ने इसका विरोध किया तो ड्राइवर बोला- मै खुद तो मरूंगा ही साथ ही तुम लोग भी जिंदा नहीं बचोगे। इसके बाद ड्राइवर ट्रक को पुलिया की ओर ले गया और खुद चलते हुए ट्रक से कूद गया। इसके बाद ट्रक पुलिया से नीचे गिर गई। इस हादसे में नेमाराम की ट्रक केबिन के नीचे दबने से मौ’त हो दई, जबकि अन्य दो होमगार्ड के जवान गंभीर रूप से जख्मी हो गए।

जवान नेमाराम का शव कल रात बाड़मेर के गिराब में पहुंचा। जवान नेमाराम की अंतिम झलक पाने के लिए गांववासी एकत्रित हो गए। बच्चों से लेकर गृहणियों तक पूरा गांव एक जगह पर केंद्रित होकर जवान नेमाराम के अंतिम दर्शन कर रहा था। इस बीच बस यही गुंज रहा था- नेमाराम अमर रहे, अमर रहे। खबर के मुताबिक घर में शादी की तैयारियां चल रही थीं, मौजूदा वक्त में पूरे घर में मातम पसरा हुआ है। घर में कोहराम मचा हुआ है तथा पूरे गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है। जवान को देख सभी गांववासियों की आंखें भी नम हो गई थीं। सभी गांववासियों ने एकता के सुर में नेमाराम के शहीद होने का दर्जा तथा शहीद के परिवार को एक करोड़ रुपए का पैकेज देने की मांग रखी है ताकि परिवार की आर्थिक मदद की जा सके। नेमाराम की राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई हुई, उन्हे भाई ने मुखाग्नि दी है।

barmer Jawan Nemaram dead in truck accident

परिजनों के मुताबिक, नेमाराम की उम्र 22 साल थी। उनकी (barmer Jawan Nemaram dead in truck accident) सगाई 2 साल पहले खुडाणी के रहने वाली छगनी के साथ हुई थी। 18 दिन बाद दोनों शादी के सूत्र में बंधने वाले थे। नेमाराम के बड़े भाई बताते हैं कि शादी की तैयारियों के लिए टेंट, कंदोई और अन्य बुकिंग कर ली गई थी। कार्ड छपवाने के लिए भी मैटर तैयार करवा लिया गया था। मगर ये सारी खुशियां अब मातम में बदल गई हैं।

Churu Kumbhakarna Singh: मां भारती की रक्षा करते हुए तोगावास का 28 वर्षीय बेटा हुआ शहीद

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि