Connect with us

बीकानेर

बीकानेर का अभेद्य जूनागढ़ का किला जिसे कोई भी जीत नहीं सका, हासिल करना रहा सपना

Published

on

किलो के नाम वैसे राजा के नाम से होते हैं या सामने देखा है यथा किशनगढ़ किशन सिंह के नाम पर, जय गढ़ जय सिंह के नाम पर जैसलमेर रावल जैसल के नाम पर, लेकिन जूनागढ़ किसी के नाम पर नहीं है जूना का अर्थ प्राचीन से है पुराने से है।इससे पहले इस किले का नाम चिंतामणि था।जूनागढ़ का निर्माण कई चरणों में हुआ। यह राजस्थान के कुछ प्रमुख किलों में से एक है जो एक पहाड़ी की चोटी पर नहीं बनाया गया है। किले के आसपास आधुनिक शहर बीकानेर विकसित हुआ।

बीकानेर के छठे शासक राजा राय सिंह के प्रधान मंत्री, करण चंद की देखरेख में बनाया गया था, जिन्होंने 1571 से 1611 ईस्वी तक शासन किया था।1589 में शुरू की गई दीवारों और संबंधित खंदक का निर्माण 1594 में पूरा हुआ। पुराने किले के कुछ अवशेष लक्ष्मी नारायण मंदिर के पास संरक्षित हैं। इतिहास की जानकारी के अनुसार इसके लिए पर भी कई आक्रमण हुए लेकिन शिवाय कामरान के कोई इसे फतेह नहीं कर पाया। कामरान मुगल शासक बाबर का बेटा था।1534 में उसने आक्रमण किया था।कभी ये(बीकानेर) इलाक़ा जांगलधर प्रदेश कहलाता था, जांगलू राजधानी हुआ करती थी।इसी जांगलधर में एक किला यह भी।किला राजस्थान के थार रेगिस्तान के शुष्क क्षेत्र में स्थित है, जो पश्चिमी भारत में पहाड़ों की एक श्रंखला अरावली पर्वतमाला द्वारा उत्तर-पश्चिम में बसा है। रेगिस्तानी क्षेत्र का एक हिस्सा बीकानेर शहर में है।

वर्तमान जो किला बना हुआ है यह रायसिंह द्वारा निर्मित है, रायसिंह बहुत किस्मत वाला राजा था, बीकानेर में सबसे ज्यादा साल राज उसी ने किया।1571 से 1611 तक।वैसे इससे पहले पत्थर का किला था, जो कि बीकानेर के संस्थापक राव बीका द्वारा निर्मित है। राव बिका जो है जोधपुर राजा राव जोधा के दूसरे पुत्र थे।जोधा के दूसरे पुत्र के रूप में उनके पास अपने पिता के क्षेत्र में महाराजा की उपाधि प्राप्त करने का कोई मौका नहीं था। इसलिए, उन्होंने संतुलन बाबत फैसला लिया और जांगल धर देस राव बीका को सौंप दिया।हालांकि बीकानेर, थार रेगिस्तान का एक हिस्सा था, लेकिन इसे मध्य एशिया और गुजरात तट के बीच व्यापार मार्ग पर एक नखलिस्तान माना जाता था क्योंकि इसके पास पर्याप्त पानी के स्रोत थे।

बीकानेर और उसके भीतर के किले का इतिहास इस प्रकार बीका से शुरू होता है।राजा राय सिंह कला मर्मज्ञ थे, और उसी का परिणाम है जूनागढ़ की शानदार वास्तुकला और भव्यता।किले, मंदिरों और महलों को संग्रहालयों के रूप में संरक्षित किया गया है और राजस्थान के अतीत के महाराणाओं की भव्य जीवन शैली में अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं। थार के बीचों-बीच बना यह किला रेगिस्तान में खड़े किसी जहाज सा दिखाई पड़ता है।जूनागढ़ किले में उत्तर दिशा में एक महल है जिसे स्विंटन द्वारा डिजाइन किया गया है।किले के भीतर बनी संरचनाएं महल और मंदिर हैं, जो लाल बलुआ पत्थर और संगमरमर से बने हैं। महलों को आंगनों, बालकनियों, कियोस्क और खिड़कियों के उनके वर्गीकरण के साथ सुन्दर प्रस्तुत किया गया है।सात दरवाजों वाले इस किले में कई महल, मंडप और हिन्दू, जैनों के मंदिर हैं।जो प्राचीन समय के हैं।किले की एक महत्त्वपूर्ण विशेषता है लाल और सेंडस्टोन में की गयी नक्काशी है। किले में करण महल, फूल महल,अनूप महल, बादल महल, चंद्र महल, हवा पोल, सूरज पोल, दोलत पोल, चांदपोल आदि स्थित है जो वास्तव में देखने योग्य हैं।

एक जानकारी के मुताबिक बीकानेर के महाराजाओं की पत्नियों के लाल रंग में दौलत पोल गेट की दीवार पर एक-एक हाथ के निशान देखे जाते हैं, जिन्होंने यु’द्ध में मा’रे गए अपने पतियों के अंतिम सं’स्कार पर स’ती (आ’त्म’दा’ह) किया था।जूनागढ़ किले के पास स्थित रतन बिहारी मंदिर, 1846 में बीकानेर के 18 वें शासक द्वारा बनाया गया था।संगमरमर का उपयोग करके इंडो-मुगल स्थापत्य शैली में बनाया गया था। मंदिर में हिंदू भगवान कृष्ण को विराजित किया गया है।किले के भीतर संग्रहालय जिसे ‘जूनागढ़ किला संग्रहालय’ कहा जाता है की स्थापना 1961 में महाराजा डॉ.करणी सिंह जी ने “महाराजा राय सिंहजी ट्रस्ट” के नियंत्रण में की थी। इस म्युजियम में संस्कृत और फारसी पांडुलिपियों, लघु चित्रों, जवाहरात, शाही वेशभूषा, किसान (शाही आदेश), चित्र दीर्घाओं, वेशभूषा, हेडगियर और देवताओं की मूर्तियों, चांदी, पालकी, और यु’द्ध ड्रम के कपड़े प्रदर्शित होते हैं।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >