Connect with us

चूरू

राजस्थान की माटी के लाल और चूरू की शान गायक कलाकार लादुराम नायक की कहानी

Published

on

इस माहमारी के चपेट में आने से अपने देश ने कई नामचीन हस्तियों को भी खोया है इसी के चलते एक बड़ी खबर राजस्थान के चूरू शहर से आई। अंतर’राष्ट्रीय स्तर के कलाकार लादूराम नायक का 80 वर्ष की आयु में नि’धन हो गया। आपको बताएं लोक वाद्य यंत्र डेरु से लादुराम नायक जी ने अपनी अलग पहचान बनाई थी। वह चूरू सरदारशहर के रहने वाले थे।

दरअसल लादुराम नायक माहमारी के चपेट में आ गए जिसके बाद उन्हें बेहतर इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन बीती रात लादुराम नायक जी को सांस लेने में तकलीफ होने लगी जिसके बाद सरदार शहर के को’ विड-19 सेंटर में उन्हें ले जाया गया और वहां जाने के बाद एक दुखद खबर राजस्थान के लिए आई। लादूराम ने को’ विड-19 सेन्टर में अपने आखिरी सांस ली।

लादूराम जी राजस्थानी संस्कृति के जाने माने कलाकार थे, उन्होंने राजस्थान व भारत देश में नहीं अंतर’राष्ट्रीय स्तर में भी राजस्थानी संस्कृति की छाप छोड़ी है। भारत समेत पैरिस, जर्मनी,लंदन,इटली,फ्रांस पुर्तगाल जैसे कई देशों में भी लादुराम नायक जी ने अपनी प्रस्तुति दी है। बताया जाता है कि लादूराम जी नायक जी के भारत नहीं विदेशों में भी कई फैंस हैं। अंतर्राष्ट्रीय कलाकार लादूराम जी विदेशों में भी कार्यक्रम के लिए जाया करते थे।

लादूराम जी नायक के जाने की खबर सुनकर चूरू के विधायक और राजस्थान के पूर्व मंत्री राजेंद्र राठौड़ ने ट्वीट कर लिखा कि चुरु शेखावटी की शान अंतर’राष्ट्रीय स्तर के गायक लादुराम जी के नि’धन का समाचार प्राप्त हुआ। उन्होंने लोक वाद्य यंत्र डेरु से दुनिया भर में अलग पहचान बनाई थी। उन्होंने विश्व भर के लोगों के दिल में अपनी जगह बनाई थी। चूरू,राजस्थान की शान बढ़ाई थी। उन्होंने आगे लिखा है कि ईश्वर दिव्यंग आत्मा को शांति प्रदान करें। परिजनों को इस कठिन परिस्थिति में हिम्मत प्रदान करें। ओम शांति।

लादूराम जी के नि’धन की खबर सुनकर गांव में शोक का माहौल है। परिजनों समेत गांव के हर व्यक्ति को उनके चले जाने का दुख है। हम भी लादूराम जी के नि’धन पर शोक प्रकट करते हैं। साथ ही भगवान से यह कामना करते हैं कि उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे। परिजनों को इस दुख की घड़ी में हिम्मत प्रदान करें। ओम शांति।

   
    >