पहले युवकों ने 13 साल के बच्चे के साथ किया गैंगरे’प, फिर चोरी के मामले में करवा दिया गिरफ्तार

राजस्थान: जयपुर (Jaipur) के रामनगरिया (RamNagariya) थाना पुलिस में 13 वर्षीय बच्चे के साथ सामूहिक ब’लात्कार का मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक, बच्चे के साथ मारपीट कर और उसे बंधक बना उसके साथ गलत काम किया गया है। पीड़ित बच्चा बुरी तरह रोता रहा- छोड़ देने की गुहारें लगाता रहा मगर आरोपियों के नापाक इरादों और वहशीपन के आगे उसकी एक ना चली। यही नहीं हद तो तब हो गए जब आरोपी उसे मारते-पीटते थाने ले गए। जहां जाकर उन्होंने पीड़ित को आरोपी बताते हुए (13 year old child gang raped) कहा कि वह चोरी कर रहा था। अंधी और बहरी पुलिस ने भी बिना विचारे बच्चे को बाल अपचारी बना दिया तथा उसे ट्रांसपोर्ट नगर (Transport Nagar) में मौजूद बाल सुधार गृह में भेज दिया ।

बाल सुधार गृह से उसे विराट नगर (Virat Nagar) में मौजूद एक एनजीओ में भेजा गया। जहां बच्चे की काउंसलिंग हुई। इस काउंसलिग में बच्चे ने जो खुलासा किया उसने सबको चौंका दिया। यह सब सुन रामनगरिया थाना पुलिस हरकत में आई और मामले की संजीदगी को समझते हुए इस बाबत केस दर्ज किया। थाना एसएचओ (SHO) राजेश शर्मा ने कहा कि केस दर्ज मामले की जांच शुरू कर दी गई है। यह मामला बेहद संगीन है।

जब 1 साल का था बच्चा तो मां गुजर गई, नशेडी पिता ने दिया घर से भगा- रिश्तेदारों ने भी नहीं दी पनाह।

काउंसलिंग के दौरान बच्चे ने जो अपनी कहानी बताई उसे सुन हर किसी का दिल पसीज जाए। पदाधिकारियों ने कहा कि बच्चे की उम्र 13 साल है। यह बच्चा सांभर (Sambhar) का रहने वाला है। जब यह 1 साल का था जब उसकी मां गुजर गई थी। वहीं पिता ने भी (Jaipur) बच्चे का कोई खास ख्याल नहीं रखा। पिता शराब में धुत रहता, वह बच्चे से इतना चिढ़ता कि एक दिन तो उसे मारने पर आमादा हो गया था, मगर दादी ने किसी तरह बच्चे को बचा लिया। इसके बाद वह बच्चे के साथ चौमू (Chaumu) आ गईं, लेकिन कुछ वक्त बाद दादी की मौ’त हो गई, यानी बच्चे के पास जो एक सहारा था, वह भी छिन गया था। पिता के अलावा बच्चे की पांच बुआएं भी थीं मगर बुआओं ने भी बच्चे को पनाह नहीं दी। वह सड़क पर खाता, वहीं रहता और किसी तरह अपना पेट भरता।

काम की आड़ में किया गंदा काम

एक दिन सिंधी कैंप (Sindhi Camp) में बच्चे से एक युवक मिला जिसका नाम रविंद्र था। वह उसे रामगरिया क्षेत्र (Ramgariya) में ढाबे पर ले गया, जहां लड़का काम करने लगा। लेकिन एक दिन रविंद्र और उसके साथ शामिल एक अन्य शख्स बच्चे को अच्छा काम दिलाने (13 year old child gang raped) के बहाने अपने घर ले आए, वहां पर उन्होंने उसे बंधक बना लिया, और उसके साथ गंदे काम को अंजाम दिया, बच्चे के साथ खूब मारपीट की और बाद में उसे मारते-पीटते थाने ले गए। जहां उन्होंने बताया कि यह चोर है इसने चोरी की है। इस बाबत पुलिस ने भी कोई पूछताछ करना मुनासिब नहीं समझा और बच्चे को पकड़कर बाल अपचारी बना दिया।

बाल गृह में (Jaipur) अपचारियों के दो आपसी गुटों में तगड़ा झगड़ा हो गया और इस दौरान ह’त्या भी हो गई थी। इस खौफ से कि अब कोई ऐसी घटना न हो इसलिए बच्चों को अलग-अलग जगहों पर भेज दिया गया। वहीं इस 13 वर्षीय बालक को बाल आश्रम की ओर से विराटनगर (Viratnagar) में मौजूद एक एनजीओ (NGO) आश्रम में भेज दिया गया। जहां काउंसलिंग में बच्चे ने अपनी आप बीती बताई। इस घटना से सब चौंक गए। बाद में आश्रम की ओर से रामनगरिया थान में बच्चे के साथ हुए अपराध के संबंध में उन दो व्यक्तियों पर केस दर्ज करवाया गया।

यह भी पढ़ें- जयपुर (Jaipur) के इस गांव में सांपो का कहर ~ रात को घर में आ जाते है 40-50 सांप, दहशत में परिवार

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि