Connect with us

जैसलमेर

जैसलमेर किले के अंदर मौजूद जैन मंदिर को खिलजी ने किया था ध्वस्त

Published

on

Jain Mandir

भारत में कई सैकड़ो मंदिर इस वक्त मौजूद है। ऐसा ही ऐसा ही एक मंदिर है जैसलमेर के किले के अंदर मौजूद जैन मंदिर (Jain Mandir Jaisalmer)। इस मंदिर का निर्माण 1509ई (1509 E) में हुआ था।

सात जैन मंदिर में से एक

जैसलमेर का यह चंद्रप्रभु मंदिर (Jaisalmer Chandarprabhu Mandir) आठवीं जैन तीर्थंकर (8th Jain Thirathkar) चंद्र प्रभु को समर्पित है यह मंदिर भारत के साथ जैन मंदिरों में से प्रमुख मंदिर है इस मंदिर की खासियत है कि मंदिर लाल पत्थरों (Red Stone) से बना हुआ है और राजपूत स्थापत्य शैली के लिए प्रमुख मन्दिर हैं।

jain mandir

तीन मंजिला है मंदिर (Teen Manjila Jain Mandir) 

जैसलमेर का चंद्रप्रभु मंदिर बाटिका नक्काशी, ज्यानीतिय पैटर्न, भितचित्र (Wall Painting) से लोगो को आकर्षित (People Attraction) करता हैं। इस मंदिर में कलाकारी के अधबुत नजारे को देखने सैकड़ो लोग आते है। जैसलमेर का यह मंदिर 3 मंजिला मन्दिर है।  3 मंज़िला यह विशाल मंदिर 12वी सदी (12th Century) में बना था।

खिलजी ने किया जब हमला

जैसलमेर के चंद्रप्रभु मंदिर पर मुगल अलाउद्दीन खिलजी (Alauddin Khilji) ने आक्रमण (Attack On Temple) कर उसे ध्वस्त कर दिया था। मंदिर को पूरी तरह नष्ट कर दिया गया था। उसके बाद जैन धमानुय्यियो में से पुन निर्माण करवाया था। जैनी लोगो ने इसे बाद में आम लोगो के लिए खोल था। मंदिर पर आज सैकड़ो लोग दर्शन करने के लिए आते हैं।

jain mandir

मंदिर की कला है गजब

जैन मंदिर के बारे मने हम आपको बताये तो राजस्थान के रेगिस्तानी इलाकें में यह मंदिर मौजूद है। मंदिर से एक उच्च धार्मिक और प्राचीन इतिहास भी जुड़ा हुआ हैं। मंदिर दिलवाड़ा शैली में निर्मित है और इस मंदिर कि अपनी वास्तुकला लोगो को आकर्षित करती है। यह जैन मंदिर जैनी तीर्थकर को समर्पित है। मंदिर एक ही स्वर्ण पिले जैसलमेरी पत्थरो से बनाया गया है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

   
    >