Connect with us

जैसलमेर

रेतीली धरती पर जैसलमेर की बेटी ललिता ने लहराया सफलता का परचम, गुजरात न्यायिक सेवा में बनी जज

Published

on

राजस्थान के सुदूर पश्चिमी इलाके में आने वाला जिला जैसलमेर जहां एक समय में बेटियों के जन्म लेने पर घर में मातम का माहौल हो जाता था, बेटियों को अभिशाप माना जाता था पर हम बात कर रहे हैं एक गुजरे समय की लेकिन वर्तमान में यहां की बेटियां तमाम बंधनों और धारणाओं को तोड़कर सफलता के नए आयाम लिख रही है।

आज पश्चिमी राजस्थान के कई जिलों से बेटियां शिक्षा और नौकरी के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रही है। ताजा उदाहरण हाल में जैसलमेर के पूनमनगर गांव की रहने वाली एक बेटी ललिता भाटी है जिनका चयन गुजरात न्यायिक सेवा में न्यायाधीश के पद पर हुआ है।

जैसलमेर के रहने वाले वरिष्ठ वकील इंद्रसिंह भाटी की बेटी ललिता ने गुजरात राज्य में 9वीं रैंक हासिल कर जिले के साथ ही राजस्थान का भी नाम रोशन किया है।

कानून की किताबों से था बचपन से प्यार

ललिता को स्कूल के दिनों से ही ज्यूडिशियल सर्विसेज की किताबों में रूचि थी वह कानून से जुड़े विषयों पर अपनी राय बनाती थी। वह अपने पिता के कानूनी केसों के बारे में उनसे सवाल पूछा करती थी। धीरे-धीरे करते ललिता का कानून की पढ़ाई की तरफ रूझान बढ़ता चला गया।

पहले प्रयास में असफलता के बाद नहीं मानी हार

ललिता की शुरुआती पढ़ाई-लिखाई जैसलमेर में गांव से ही हुई जिसके बाद वह कॉलेज में एलएलबी करने बाहर गई। ललिता ने 2017-18 में आरजेएस और जीजेएस की परीक्षा दी लेकिन उनहें सफलता नहीं मिली जिसके बाद वह दूसरे प्रयास के लिए जुट गई और आखिरकार उन्हें सफलता मिली। ललिता आज अपनी सफलता के पीछे अपने परिवार वालों को श्रेय देती है जिन्होंने हर समय उनका मनोबल बढ़ाया।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

   
    >