Connect with us

झुंझुनू

भारतीय सेना का ‘हीरो’ जवान अनिल धनखड़ ने फ़तेह किया माउंट एवेरेस्ट,भारी बर्फ़बारी में लहराया तिरंगा

Published

on

भारतीय सेना का सैनिक सीमा पर मुस्तैदी से रक्षा करता है। उसके हौसलों को डगमगाना हर किसी के बस की बात नहीं होती। वो कहते हैं कि कौन कहता है कि आसमान में सुराख नहीं हो सकता एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारो। इसी बात को सच साबित किया भारतीय सैनिक अनिल धनखड़ ने। झुंझुनू चिड़ावा के सोलाना गांव के निवासी हवलदार अनिल धनखड़ ने दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर तिरंगा फतेह करके साबित कर दिया

कि भारत के लोग और भारतीय सेना के सैनिक हर जगह पहले नंबर पर है। अनिल धनखड़ की बात करें तो केवल 17 साल की उम्र में उन्होंने सेना को ज्वाइन कर लिया था। वही माउंट एवरेस्ट की चढ़ाई के दौरान बर्फीली हवाएं और खराब मौसम भी अनिल धनखड़ को उनके साथियों को हिला नहीं पाया और सभी साथियों ने मिलकर के माउंट एवरेस्ट की चोटी पर तिरंगा फहरा दिया।

अनिल धनखड़ व उनके साथियों की बात करें तो 25 मार्च 2021 को उन्होंने माउंट एवरेस्ट अभियान की शुरुआत की थी। जिसमें 7 लोगों को शामिल किया गया। इन 7 लोगों में 2 कमीशन अधिकारी, तीन हवलदार रैंक के सैनिक और दो माउंटेनियर इंस्ट्रक्टर शामिल किए गए। 2 अप्रैल को सभी लोग काठमांडू पहुंचे जिसके बाद 8 अप्रैल को बेस कैंप में पहुंचकर एक हफ्ते की ट्रेनिंग पूरी की। 21 तारीख को नेपाल की लुबचे चोटी जो 6119 मीटर ऊंची है। उसे फतह किया और इसके बाद शुरु कर दिया, अपना माउंट एवरेस्ट फतह करने का अभियान।

24 मई को अनिल और उनके साथी कैंप 2 में पहुंचे थे। वहां पहुंचकर उन लोगों ने देखा कि तेज बर्फीली हवाएं व तूफान से मौसम बड़ा खराब था। साथ ही बर्फबारी के कारण आगे का सफर तय कर पाना मुश्किल नजर आ रहा था। अनिल बताते हैं कि डेढ़ सौ से ज्यादा पर्वतारोही वापस चले गए वह लोग माउंट एवरेस्ट चढ़ने का सपना छोड़ अपने घर की ओर वापस चल दिए। तेज हवाओं और खराब मौसम की वजह से कई लोग हार मान गए लेकिन अनिल और उनके साथी हार नहीं माने। 6 दिन तक कैंप 2 में रुके रहे जब मौसम ठीक हुआ तो उन्होंने आगे का सफर तय करना शुरू किया। मन में एक ही विश्वास था कि अब न रुकना है न ही थकना है। अनिल बताते हैं कि वह लोग कैंप 2 से सीधा कैंप 4 में पहुंचे। कैंप 3 में अनिल उनके साथ ही नहीं रुके सीधा कैंप 4 में पहुंचे।

31 मई को कैंप 4 से सभी लोगों ने रात को एवरेस्ट फतेह करना शुरू किया और अनिल व उनके साथियों की मेहनत 1 जून सुबह 6:30 बजे रंग ले आई। 1 जून सुबह 6:30 बजे अनिल और उनके साथियों ने सबसे ऊंची चोटी पर तिरंगा लहरा दिया।

कई उच्ची चोटी फतेह कर चुके है अनिल धनखड़ : अनिल धनखड़ की बात करें तो 29 अप्रैल 2002 को 8 महार रेजीमेंट पोस्टिंग के दौरान उन्होंने आर्मी क्रॉस कंट्री साल 2006 से 2007 2008 में विजेता रहे थे। उन्होंने हाई एल्टीट्यूड वेलफेयर स्कूल गुलमर्ग से 2009-2010 में पर्वत चढ़ने का कोर्स किया था। साल 2010 से 2017 तक वह इसी स्कूल में इंस्ट्रक्टर के तौर पर कार्यरत रहे।

इसी दौरान अनिल ने कई और ऊंची चोटियों पर भारत के तिरंगे को लहराया है। आपको बताएं साल 2011 में मचाई चोटी जो कि 5420 मीटर ऊंची है उसे भी अनिल फतेह कर चुके हैं। साल 2013 और 2019 में त्रिशूल चोटी को दो बार फतेह कर चुके हैं, इस चोटी की ऊंचाई 7120 मीटर है। इसके अलावा साल 2016 में हरमुख चोटी 5660 मीटर और 2019 में मुंबा चोटी 5230 मीटर को भी अनिल फतेह कर चुके हैं। वर्तमान में अनिल नेहरू पर्वतारोहण संस्थान उत्तरकाशी में माउंटेनियरिंग इंस्ट्रक्टर के तौर पर कार्यरत है।

भारतीय सेना में शामिल होने के बाद से लगातार वे भारत के तिरंगे का नाम रोशन कर रहे हैं। जैसे ही अनिल के गांव में यह खबर पहुंची तो गांव वालों में खुशियों की लहर थी। गांव के निवासी ने बताया कि अनिल शुरू से ही होनहार थे। स्कूल के समय से ही वह हर चीज में आगे रहते थे। भारतीय सेना के जवान अनिल धनखड़ की इस सफलता पर आपके क्या विचार है कमेंट बॉक्स में जरूर बताये और हमारे साथ जरूर शेयर करें

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >