Connect with us

झुंझुनू

शेखावाटी को रेलवे की बड़ी सौगात, अब झुंझुनूं से जयपुर व दिल्ली तक दौड़ेगी इलेक्ट्रिक ट्रेन

Published

on

प्रदेश में चूरू जिले के बाद अब झुंझुनूं व सीकर के निवासियों को भी जल्द बिजली से चलने वाली रेल की सौगात मिलेगी। रेलवे विभाग की ओर से बिजली की रेल चलाने के लिए काम तेजी से आगे बढ़ रहा है।

आपको बता दें कि चूरू जिले में इससे पहले बिजली से ट्रेन दौड़ रही है। चूरू से जोधपुर सहित अन्य स्टेशन के लिए रेलवे बिजली से रेल चला रहा है।

नवम्बर-दिसम्बर हो जाएगा काम पूरा

सीकर-लोहारू रेलवे लाइन पर नवलगढ़ तक बिजली के पोल लगाए जा रहे हैं। वहीं सूरजगढ़ तक रेलवे ने फाउंडेशन का काम भी शुरू कर दिया है। अन्य जगहों पर भी जल्द ही बिजली के पोल लगाए जाने का काम शुरू होगा। रेलवे की माने तो नवम्बर-दिसम्बर तक इस काम को पूरा कर लिया जाएगा।

मालूम हो कि अभी इस ट्रेक पर चलने वाली सभी ट्रेन डीजल से चलती है, अब बिजली की रेल चलने के बाद रेल की स्पीड और डीजल की बचत भी होगी।

कोरोना के कारण रूक गया था काम

रेलवे की तय कार्ययोजना के मुताबिक बिजली के पोल का काम जून महीने तक पूरा होना था लेकिन कोरोना महामारी के चलते काम ठप पड़ गया। कोरोना महामारी के दौरान ऑक्सीजन की आपूर्ति रूक जाने के कारण रेलवे पोल लगाए जाने के काम को तेजी से आगे नहीं बढ़ा सका।

नवलगढ़ तक लग चुके हैं बिजली के पोल

बता दें कि बिजली के पोल लगाने का काम नवलगढ़ रेलवे स्टेशन से झुंझुनूं की तरफ करीब दो किलोमीटर पूरा हो चुका है। रेलवे एक किलोमीटर के दायरे में करीब 20 बिजली के पोल लगा रहा है।

वहीं रेलवे ने बिजली की टे्रन चलाने के लिए रींगस से सीकर के बीच वायरिंग का काम पूरा कर लिया है जहां एक महीने में सीआरएस होने के बाद संचालन शुरू हो सकेगा। इसके बाद सीकर-लोहारू ट्रेक पर काम के गति पकड़ने की संभावना है।

वर्तमान में झुंझुनूं में चल रही है 10 ट्रेन

गाड़ी संख्या समय कहां के लिए दिन
09728 2.53 सीकर प्रतिदिन
04021 3.25 जयपुर बुध/शुक्र/रवि
09807 7.59 जयपुर सोम/बुध/गुरु/शनि
09703  8.58 लोहारू  प्रतिदिन
04812 11.34  सीकर बुध/शुक्र
04811 15.44 दिल्ली बुध/शुक्र
09704 18.33 सीकर प्रतिदिन
09808 20.58 कोटा सोम/बुध/गुरु/शनि
09727 21.48 रेवाड़ी प्रतिदिन
04022 23.43 दिल्ली रवि/बुध/शुक्र

 

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >