Connect with us

झुंझुनू

286 साल का हुआ हवेलियों का शहर “नवलगढ़”, तरक्की की अद्भुत कहानी कर देगी अचंभित

Published

on

nawalgarh-history-story

नवलगढ़ : अपने इतिहास के लिए पूरी दुनिया में मशहूर हवेलियों के शहर नवलगढ़ की बात ही अलग है, और आज नवलगढ़ का 286वां स्थापना दिवस है।। नवलगढ़ को हवेलियों का शहर भी कहा जाता है। यह शहर भारत के राजस्थान राज्य के शेखावटी क्षेत्र के झुंझुनू का एक हिस्सा है। आज की तारीख इस शहर के लिए काफी खास है।

वह इसलिए क्योंकि आज ही के दिन 286 साल पहले नवलगढ़ का निर्माण किया गया था। यानी कि नवलगढ़ का आज 286वां स्थापना दिवस है।

नवलगढ़ का इतिहास

हर शहर की अपनी कहानी होती है ठीक उसी तरह नवलगढ़ शहर की भी अपनी एक अलग ही कहानी है। सन् 1737 में ठाकुर नवलसिंह ने अपने पिता और झुंझुनू के शासक ठाकुर शार्दुलसिंह के रहते रोहिली गांव के किनारे नवलगढ़ शहर की नींव रखी और साथ ही उन्होंने शेखावतों के आराध्य देव गोपीनाथजी के मन्दिर का निर्माण भी कराया।

कौन है ठाकुर नवलसिंह

सन् 1715 में जन्में ठाकुर नवल सिंह अपने पिता ठाकुर शार्दुल सिंह के पांचवे पुत्र थे। और उनकी माता का नाम बखत कंवर था। सन् 1775 में उन्होंने 3000 जाट और 2000 सवारों के एक मनसब ने नवलगढ़ में बाला किला और फतेहगढ़ किला दोनों का निर्माण कराया। सूत्रों के मुताबिक ठाकुर नवल सिंह ने महज 21 साल की उम्र में नवलगढ़ स्थापना कार्य शुरू कर दिया था।

नवलगढ़ का विकास

इस शहर में भारत को आजादी मिलने के काफी समय पहले से ही सन् 1923 में ही रेलवे लाइन का निर्माण हो चुका था। और बात करें बिजली की तो 1942 में यहां पर बिजली पहुंच चुकी थी। शिक्षा के मामलों में नवलगढ़, राजस्थान के कई इलाकों से काफी विकास कर चुका है।

नवलगढ़ में शिक्षा संस्थान कॉलेज और स्कूलों की स्थापना का दायरा बड़ा है। वैसे तो नवलगढ़ ठाकुर नवल सिंह के समय से ही काफी विकास करता रहा है,

लेकिन बात करें इसके व्यवसायिक विकास की, तो यह जाने-अनजाने कहीं ना कहीं पीछे छूट चुका है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि शहर में रोजगार के साधन कम है। अब पर्यटन स्थल के रूप में बदला नवलगढ़ शहर हेरिटेज सिटी के रूप में तेजी से आगे बढ़ रहा है।

आज नवलगढ़ में सरकारी कॉलेज, साइंस पार्क, उपजिला अस्पताल बन चुके हैं, और आने वाले समय में शहर को ड्रेनेज सिस्टम की सुविधा भी उपलब्ध होगी। आज के समय में नवलगढ़ हर मामले में आगे हैं, और तरक्की के साथ तेज गति से आगे भी बढ़ रहा है।

नवलगढ़ की बदलेगी सूरत

क्या आपको पता है कि 35 करोड़ रुपए की लागत की मदद से नवलगढ़ शहर का पूरा रंग रूप बदल दिया जाएगा।

कस्बे में ड्रेनेज प्रोजेक्ट के अंतर्गत पूरे शहर का सौंदर्यीकरण किया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक सीएम सलाहकार ने बताया कि मार्च-अप्रैल तक टेंडर जारी कर दिया जाएगा।

साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि सालों से चार स्थानों पर जाव, बकरा मंडी, भगतों का जोहड़ , डेरना में गंदे पानी की झीलें बनी हुई है जिसे अब साफ कराने का काम किया जाएगा। साथ ही कृषि उपज मंडी के पास एक पिकनिक स्पॉट भी तैयार करवाया जाएगा। जिसके साथ पानी की झील और दुकानों का निर्माण कराया जाएगा।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >