Connect with us

झुंझुनू

मां बनकर चार साल की बेटी संभाली, अब RAS बन करेगी जनता की सेवा, महिलाओं की प्रेरणा अर्चना बुगालिया

Published

on

अक्सर महिलाएं ऐसा सोचती है कि शादी, बच्चे और परिवार की जिम्मेदारियों के बाद उनका जीवन खत्म हो गया है, वो अब कुछ करने के सपने नहीं देख सकती है, उनके पास अब समय नहीं है जैसे तमाम बातों से वह निराशा में घिर जाती है।

लेकिन ऐसी महिलाओं के लिए आज हम जिनकी कहानी बताने जा रहे हैं वो एक प्रेरणा है। हम बात कर रहे हैं अर्चना बुगालिया की जिन्होंने शादी और बच्चों के बाद भी इंडियन आर्मी से शॉर्ट सर्विस कमीशन के तहत 5 साल सर्विस की और अब 55वीं रैंक के साथ आरएएस परीक्षा में सफलता हासिल की है।

घर की जिम्मेदारियां और आरएएस का मुश्किल सफर

अर्चना का आरएएस में सफलता हासिल करना आसान नहीं था क्योंकि जब वह परीक्षा की तैयारी कर रही थी तब उनकी चार साल की एक बेटी थी। अर्चना ने उन दिनों में परिवार और तैयारी दोनों को बखूबी संभाला।

आर्मी में दे चुकी है अर्चना सेवाएं

झुंझुनूं से आने वाली अर्चना ने 10वीं डूंडलोद मंडी के एक सरकारी स्कूल से पास की जिसके बाद 11वीं और 12वीं की पढ़ाई करने वह सीकर पहुंची।

इसके बाद 2012 में अर्चना ने आर्मी ज्वांइन की जहां 5 साल काम करने के बाद उन्होंने 2015 में शादी कर ली। वहीं 2017 में शॉर्ट सर्विस कमीशन के तहत उन्होंने रिटायरमेंट लिया और आरएएस के लिए तैयारी शुरू की।

किराए का कमरा लेकर रही जयपुर

आरएएस परीक्षा के लिए अर्चना नौकरी छोड़ने के बाद जयपुर आ गई जहां उन्होंने एक कोचिंग की मदद ली। इस दौरान वह जयपुर में एक किराए के कमरे में रहती थी। फिलहाल अर्चना साइक्लॉजी से मास्टर्स कर रही है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >