Connect with us

झुंझुनू

वाह!! किसान के बेटे को मिला 1.06 करोड़ का पैकेज, इंटरव्यू से पहले हुआ डेंगू ~ नहीं मानी हार

Published

on

saurabh kulhari jhunjhunu

कुछ करने का हो जज्बा,
तो कोई रोक नहीं सकता।
बीमारी ने भी रुकावट डाली,
पर उसका भाग्य था जगता।

किसान के बेटे का एक करोड़ का पैकेज।
***********************************
दोस्तों नमस्कार।

दोस्तों आज मैं आपको एक ऐसी शख्सियत से रूबरू करवा रहा हूं। जिसने झुंझुनू (Jhunjhunu) का नाम इतिहास के पन्नों में स्वर्णिम अक्षरों से लिखवा दिया है। एक गरीब किसान का बेटा, जिसने बहुत ही तकलीफ से पढ़ाई पूरी करने के बाद में ऐसा अनोखा प्रण लिया और उसको पूरा किया।

परिचय और शिक्षा।
*****************
झुंझुनू जिले के मलसीसर गांव (Malsisar Village) के रहने वाले सौरव कुलहरी का जन्म राजेश कुलहरी के घर माता चंद्रकला जी की कोख से हुआ था। सौरभ ने स्वयं बताया की मम्मी पापा की आर्थिक स्थिति कमजोर होने के उपरांत भी दिन रात मेहनत कर मेरा झुंझुनू के एक निजी विद्यालय में दाखिला करवाया । दसवीं पास करने के उपरांत मैंने प्रण किया कि मम्मी पापा के सपनों को पूरा करने के लिए चाहे कुछ भी करना पड़े मैं करूंगा।

उन्होंने बताया कि जब मैं दसवीं में था तब बुआ जी की दो बेटियां सीकर में आईआईटीकी तैयारी कर रही थी। तब मेरे मम्मी पापा ने मुझे भी आईआईटी करवाने का निश्चय किया। मुझे दसवीं पास करते ही सीकर आईआईटी (IIT) की तैयारी हेतु भेज दिया। उस समय मेरे पास मेरी दादी मनकोरी देवी दो साल मेरे साथ रही। मेरी दादी खुद के काम के अलावा मेरे सारे काम करती थी। मुझे उनके जोश को देखकर ऐसा नहीं लगता था कि यह बुजुर्ग औरत है।

मुझे पढ़ाई करने का पूरा समय मिलता और मेरा आईआईटी कानपुर में चयन हो गया। अब यह मेरा आखिरी वर्ष है।उन्होंने बताया कि मुझे मेरे दादाजी श्री सांवरमल कुलहरी से बहुत ज्यादा लगाव था। तीन साल पहले उनके निधन के बाद में मेरी पढ़ाई पर बहुत ज्यादा फर्क पड़ा। तो मैं मेरे ननिहाल चला गया। जहां पर एक महीने रहा। तो मेरे नानाजी ने मुझे ढांढस बंधाया तो मैंने वापस घर आकर पढ़ाई करनी शुरू कर दी।

अमेजन (Amazon) में इंटरव्यू।
******************

अमेजन कंपनी में इंटरव्यू देने से पहले मुझे डेंगू हो गया। 8 नवंबर को डेंगू पॉजिटिव पाया गया, तो डॉक्टरों ने मुझे फुल रेस्ट करने की सलाह दी और मैंने बीस दिन तक फुल बेड रेस्ट किया। डेंगू संक्रमित होने के कारण मेरी प्लेट लेट चौसठ हजार तक गिर गई थी। और 28 नवंबर को मेरा अमेजन कंपनी से इंटरव्यू का मेल आया। उन्होंने बताया कि मेरा 2 दिसंबर को इंटरव्यू था। और मैंने इंटरव्यू दिया। तथा एक करोड़ का ऑफर मिला तो मैंने हां करदी।

जॉइनिंग कब है।
**********”**

सौरभ ने बताया कि यहां कानपुर आईआईटी में मेरा आखिरी वर्ष है। तथा अगले वर्ष अमेज़न कंपनी में ज्वाइन कर लूंगा। इससे पहले भी एपिटी पोर्टफोलियो कंपनी से मुझे पचास लाख के पैकेज का ऑफर मिल चुका है। सौरभ को अमेजन कंपनी से 1.06 करोड का ऑफर मिला है। अगले वर्ष सौरव लंदन ऑफिस (London Office) में अमेजन का सॉफ्टवेयर डेवलपर (Software Developer) का काम देखेंगे।

अपने विचार।
*************

चोरी डाका पेट को भींचे,
पूत कपूत तो क्यों धन सींचे।
परहित ऊपर स्वार्थ नीचे,
पूत सपूत तो क्यों धन सींचे।

विद्याधर तेतरवाल,
मोतीसर।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >