राजपूत सगी बहनें दिव्या डिंपल ने आर्मी में कैप्टन- लेफ्टिनेंट बन किया राजस्थान का नाम रोशन

कैप्टन लेफ्टिनेंट तो एक बहाना है,
देखो नारी की गहराई को।
लक्ष्मी दुर्गा सरस्वती देखी,
और देखी है लक्ष्मी बाई को।

दोस्तों नमस्कार।

दोस्तों आज मैं आपको ऐसी महान विभूतियों से मिलवाने ले जा रहा हूं। जिनकी उपलब्धि के चर्चे आज चारो तरफ है। जिनकी मिसाल राजस्थान में अभूतपूर्व है। अर्थात आज से पहले नहीं है।

जोधपुर (Jodhpur) से 45 किलोमीटर दूर बावड़ी तहसील के अनवाना गांव में राजपूत परिवार की दो सगी बहनों ने राजस्थान में वह करिश्मा कर दिखाया, जो आज से पहले नहीं हुआ था। उन्होंने सेना में कैप्टन और लेफ्टिनेंट के पद पर जॉइनिंग की है। अफसर बेटियों के पिता श्री भगवान सिंह राजपूत (Bhagwan Singh Rajput) ने अपने को गौरवान्वित महसूस करते हुए कहा कि इन्होंने प्रदेश का और समाज का नाम रोशन किया है।

राजस्थान ग्रामीण बैंक पाली की अंकेक्षण शाखा से सेवानिवृत्त हुए भगवान सिंह की बड़ी बेटी दिव्या (Divya) 26 वर्ष की, तथा छोटी बेटी डिंपल (Diimple) 23 वर्ष की है। अफसर बेटियों की मां गेंद कवर ग्रहणी है, तथा भाई ध्रुव पढ़ाई कर रहा है।

कहां कहां पोस्टिंग मिली।
*********************

बड़ी बहन दिव्या भाटी (Divya Bhati) की जोइनिंग 2019 में उधमपुर में हुई थी वर्तमान में उधमपुर की लीगल ब्रांच में कार्यरत है। दिव्या भाटी की सगाई धमोरा गांव के अरमान सिंह शेखावत के साथ में हुई है। अरमान सिंह सेना में मेजर पद पर कार्यरत है। तथा उनकी 6 फरवरी 2022 को शादी है।

भगवान सिंह ने अपनी दूसरी बेटी डिंपल के बारे में बताया कि उसने लेफ्टिनेंट का 11 माह का प्रशिक्षण 20 नवंबर 2021 को ही पूरा किया है। उसके बाद में घर आई और 15 दिन रुक कर वापस चली गई। वर्तमान में डिंपल भारतीय सेना (Indian Army) श्रीनगर (SriNagar) की सिग्नल कोर में पोस्टेड है।

डिंपल ने 180 प्रतिभाओं के बीच में रजत पदक जीतकर बहुमुखी प्रतिभा का परिचय दिया है। उसने 11 महीने का प्रशिक्षण काल चेन्नई में पूरा किया है।

अन्य।
********

दिव्या और डिंपल ने भारतीय सेना में जॉइनिंग करने के बाद में समाज को दिखा दिया है, कि लड़कियां आज किसी से भी कम नहीं है। आज दुनिया के अंदर किसी भी क्षेत्र में चले जाओ, लड़कियां आपको लड़कों से अच्छे स्टेज पर काम करती हुई मिलेंगी। और अब सेना में भी अपना हुनर दिखाना शुरू कर दिया है, कुछ समय पहले तक सेना लड़कियों से अछूती थी।

अपने विचार।
*************

खेत और खलियान देखे,
देखी दुर्गम घाटी को।
भारत मां का मान बढ़ाया,
धन्य है मारवाड़ की माटी को।

विद्याधर तेतरवाल,
मोतीसर।

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि