Connect with us

नागौर

एक और राजस्थान के बेटे शहीद सूबेदार महेंद्र कुमार जी ने देश के लिए कुर्बान की अपनी जान

Published

on

shaheed subedar mahendra kumar

राजस्थान के नागौर जिले (Nagaur News) का लाल सूबेदार महेंद्र कुमार जी मुवाल (Shaheed Mahendra Kumar) जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के कुपवाड़ा (Kupwada) में शहीद हो गए हैं। सूबेदार महेंद्र कुमार नागौर जिले के लालास गाँव (Lalas Village) के निवासी थे।

उनकी शहादत की खबर सुनते ही गांव में सन्नाटा पसर गया है। शहीद सूबेदार महेंद्र कुमार जी की पार्थिव देह उनके पैतृक गाँव में कल दिनांक 12th जनवरी 2021 को पहुंचेगी।

शहीद महेन्द्र जी कुपवाड़ा में जहाँ पोस्टेड थे वहां भारी बर्फबारी हो रही थी और ऐसे में शहीद होने के बाद उनकी पार्थिव देह को बेस तक समय पर नहीं लाया जा सका। परिवार के जानकारों के अनुसार परिवार के सदस्य सूचना आते ही विगत 4 दिनों से रक्षा मंत्रालय के संपर्क में थे ताकि शहीद की पार्थिव देह समय पर जल्द से जल्द उनके घर तक लाया जा सके परंतु मौसम की विपरीत हालातों के कारण देरी हो गई।

नागौर जिले की इस देव भूमि और शहीदों की धरा से महेंद्र जी ने कुपवाड़ा में मां भारती की सेवा करते हुए अपने प्राणों को अर्पित कर दिया। थोड़े दिन पहले ही 39 राष्ट्रीय राइफल राजौरी में तैनात थर्ड ग्रेनेडियर 23 साल के नागौर जिले के शहीद मनोहर सिंह ने अपनी शहादत दी और आज फिर से दुःखद समाचार प्राप्त हुआ है।

शहीद सूबेदार महेंद्र कुमार मुवाल जी 5 जनवरी 2021 को जम्मू कश्मीर में बर्फीली ऊंची चोटियों पर डयूटी के दौरान 43 वर्ष की आयु में देश के लिए दे दी अपनी शहादत। उन्होंने 28 जून 1996 में सेना में भर्ती हुए थे, इस प्रकार से करीब 25 सालों तक देश के लिए सेवा दी।

शहीद सूबेदार महेंद्र कुमार जी का पार्थिव देह आर्मी की गाड़ी से राजकीय सम्मान के साथ कल सुबह 9 बजे पहुँचेगा सीकर पहुंचेगा जहाँ से विशाल जनसैलाब के साथ उनके पैतृक गांव लालास तक जाएगा।

नागौर सांसद (MP) हनुमान बेनीवाल (Hanuman Beniwal) ने ट्विटर के माध्यम से अपनी श्रृद्धांजलि प्रकट की है :

झलको राजस्थान (Jhalko Rajasthan) शहीद को नमन करते है और ईश्वर दिवगंत शहीद की आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान प्रदान करे और हमारी संवेदनाएं शोकाकुल परिजनो के साथ है ! #जय_हिंद

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >