Connect with us

राजस्थान

नक्की झील : राजस्थान में मीठे पानी की वो झील जिसकी देवताओं ने की थी अपने नाखूनों से खुदाई

Published

on

राजस्थान के कई जिलों में काफी झीलें अपनी छटा बिखेरती है, उन्हीं में से एक नक्की झील है जो राजस्थान के सिरोही जिले में स्थित प्रसिद्ध हिल स्टेशन माउंट आबू में है। यह प्रदेश का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। 1200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह सुंदर एवं शांत झील जिसकी पृष्ठभूमि में सुरम्य पहाड़ियां है, सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र है। इस झील के नाम को लेकर कई किंवदंतियां हैं, जो राजस्थानी लोकगीतो एवं कहानियों में भी सुनने को मिलती है।

ऐसी जनश्रुति प्रचलित है की इस झील की खुदाई देवताओं ने अपने नख यानी नाखूनों से की थी इसलिए इसका नाम नक्की झील पड़ा। दूसरी मान्यता है कि रसिया बालम जो कि माउंट आबू में मजदूरी करने आया था वहां उसने एक कन्या को देखा, जिसे देखते ही उसे प्यार हो गया और यही हाल कन्या का भी हुआ।

बताया जाता है कि राजा ने अपनी कन्या के विवाह के लिए यह शर्त रखी कि जो व्यक्ति एक रात में झील खोद देगा, उसकी शादी राजकुमारी से कर दी जाएगी। रसिया बालम ने इस शर्त को स्वीकार कर रात भर में अपने नाखूनों से झील खोद दी।

सबसे ऊंची है मीठे पानी की यह झील

नक्की झील सर्दियों में अक्सर जम जाती हैं। पर्यटक इस झील में नौकायन का आनंद लेते हैं। नक्की झील के दक्षिण पश्चिम में स्थित सूर्यास्त बिंदु से डूबते हुए सूर्य के सौंदर्य को भी देखा जा सकता है। प्राकृतिक सौंदर्य का नैसर्गिक आनंद देने वाली यह झील चारों ओर से प्राकृतिक सौंदर्य से घिरी हुई है। यहां के टापू बड़े आकर्षक हैं। कार्तिक पूर्णिमा को श्रद्धालु यहां स्नान कर लाभ उठाते हैं। झील में एक टापू को ७० अश्वशक्ति से चलित विभिन्न रंगों में जल फव्वारा लगा कर आकर्षक बनाया गया है जिसकी फव्वारे ८० फुट ऊंचाई तक जाती है।

साल भर आते हैं पर्यटक

झील के किनारे एक सुंदर बगीचा है जहां शाम के समय घूमने एवं नौकायन के लिए पर्यटक आते है। रसिया बालम और कुंवारी कन्या (राजा की बेटी) का मंदिर यही दिलवाड़ा जैन मंदिर के पीछे स्थित है। नक्की झील के किनारे स्थित प्रसिद्ध रघुनाथ मंदिर जो कि चौदहवी शताब्दी का है, इस झील को पवित्रता प्रदान करते हैं।

नवविवाहितों के लिए यह एक रोमांचकारी स्थल है। नक्की झील के आस-पास बनी दुकानों में राजस्थानी शिल्प सामग्री, संगमरमर पत्थर से बनी मूर्तियां, सूती कोटया सदियों एवं चांदी के आभूषणों की खरीददारी की जा सकती है।

   
    >