पाली के टेस्टी गुलाब हलवे की पूरी मेकिंग, देखकर मुंह में पानी आ जाएगा!

Pali Famous Gulab Halwa: सुरेश पुरी गुलाब पुरी पाली राजस्थान।
*******”*”********************

काम ऐसा करो की,
नाम बन जाए।
अपने शहर का वो,
अभिमान बन जाए।

माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपनी रैली में गुलाब हलवे का उल्लेख किया था।
************************************
दोस्तों नमस्कार!
दोस्तों आज मैं आपको एक ऐसे शख्स से रूबरू करवा रहा हूं। जिसने अपने व्यवसाय को अपना नाम देकर एक अनूठी पहचान बनाई है।

परिवार और परिचय।
******************

Pali Famous Gulab Halwa
पश्चिमी राजस्थान के पाली जिले में मिठाई व्यवसाय से जुड़े सुरेश पुरी ने खुशबू से बात करते हुए बताया कि मेरे पिताजी का नाम गुलाब पुरी है। उन्होंने यह गुलाब हलवा चालू किया था। सुरेश जी ने बताया कि आज से 50 वर्ष पहले मेरे पिताजी ने 1970 में यह गुलाब हलवा चालू किया था। पहले हमारे व्यवसाय दूध का था। दूध खराब होने के डर से पिताजी ने बचे हुए दूध से यह एक नया इवेंट चालू किया जो आज बहुत प्रसिद्ध हो गया है। Pali Famous Gulab Halwa
यह नाम कैसे पड़ा इसके जवाब में वह कहते हैं कि पिताजी ने बचे हुए दूध से हलवा बनाना चालू किया। और दुकान का नाम गुलाब हलवा वाला लिखा। लेकिन लोगों की पसंद के हिसाब से ” गुलाब हलवा- Gulab Halwa” के नाम से प्रसिद्ध हो गया।

बनाने की विधि।
*************”
सुरेश पुरी ने बताया की एक कढ़ाई में 25 किलो दूध डालते हैं। जिसको लगभग तीन घंटे तैयार होने में लगते है। इसमें चीनी के अलावा कोई दूसरी चीज नहीं डलती है इलायची पिस्ता ड्राई फ्रूट्स डालते हैं और बनने के बाद में चांदी का अर्क लगता है।
कहां कहां सप्लाई होता है के जवाब में वह कहते हैं कि जहां पर देश हो या विदेश हो मारवाड़ी रहते हैं, वहां हमारा हलवा जाता है। कितने दिन खराब नहीं होता है इसके जवाब में वह कहते हैं कि दस दिन तक इसका कुछ भी नहीं बिगड़ता है। और फ्रिज में रखने से इसका टेस्ट बदल जाता है इसलिए कभी फ्रिज में नहीं रखना चाहिए।
मुख्य काउंटर पर मैनेजर से बात करते हुए खुशबू ने हलवा टेस्ट किया और लोगोंको उसके बहुत स्वादिष्ट होने के बारे में बताया। बड़े थाल में चांदी का अर्क लगा हुआ हलवा गहरे भूरे रंग का था। मुंबई से आए हुए एक ग्राहक ने खुशबू से बात करते हुए बताया कि हम पूरे परिवार सहित यहां हलवा खाने के लिए आए हैं। और चार पांच किलो हलवा साथ भी ले जा रहे हैं। यहां का हलवा बहुत ही स्वादिष्ट है।
बहुत सारे ग्राहकों ने बताया कि लंबे समय से इन्होंने गुलाब हलवे की क्वालिटी को मेंटेन कर रखा है।जिससे लोगों का विश्वास बना हुआ है। और यहां पर ग्राहक लगातार दूर-दूर से आते हैं।

अपने विचार।
************

खेती-बाड़ी घर व्यवसाय,
जज्बा सब में चाहिए।
सब्र करो एक बानगी देखो,
धीरज का फल पाइए।

विद्याधर तेतरवाल,
मोतीसर।

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि