सीकर में लंपी बीमारी हुई बेकाबू~पशुपालकों की उड़ी नींद, पशुपालन विभाग के इंतजामों पर उठे सवाल

Lumpy Disease in Sikar : राजस्थान में लंपी रोग से पशुओं की लगातार मौत हो रही है। जिससे पशुपालकों में चिंता बढ़ गई है। लगातार गायों की मौत होंने से स्थिति बेकाबू हो गई। पशुपालन विभाग के इंतजाम पर अब सवाल उठ रहे हैं। लंपी रोग में पशुओं के त्वचा पर गांठे उभर आती है और इसके बाद तेज बुखार आती है। बुखार में पशुओं को बाद में सांस लेने में भी दिक्कत होती है। इसके बाद पशुओं की जान बचाना मुश्किल हो जाता हैं।

लंपी रोग से बचाने के लिए पशुओं को विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। संक्रमण के शिकार पशुओं के पास दूसरे पशु को नही रखना जरूरी है। सबसे महत्वपूर्ण यह है कि यह इंसानों में नहीं फैलता है।

टीकाकरण को लेकर कोई तैयारी नहीं

जहां एक ओर लंपी रोग से पशुपालकों की नींद उड़ गई। जबकि पशुपालन विभाग केवल सर्वे में अटका हुआ है। संक्रमित पशुओं के टीकाकरण को लेकर कोई तैयारी नहीं है। पशुपालन विभाग की लापरवाही से भी लगातार पशुओं की मौत हो रही है। सीकर (Sikar) जिले में 18 पशुओं की मौत हो गई।

डाॅक्टरों के मुताबिक लंपी रोग से सबसे अधिक देशी नस्ल की गायें प्रभावित हो रही है। कमजोर पशुओं को सबसे पहले यह रोग अपने चपेट में ले रहा है।

प्रदेश के काफी हिस्सों में लंपी रोग से पशुओं की लगातार मौत हो रही है। यह रोग पशुपालकों पर आफत बन कर आया है। दांतारामगढ़ में 30 से अधिक गोवंश इसके चपेट में आ गए है। बीमारी की रोकथाम को लेकर एसडीएम राजेश मीणा ने गौशाला संचालकों को बीमारी के बचाव को लेकर जागरूक रहने को कहा है। पंचायत से लेकर शहरों में भी लंपी रोग को लेकर सर्वे किए जा रहे हैं। लेकिन पशुपालन विभाग के इंतजाम पर लगातार सवाल उठ रहे है।

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि