Connect with us

सीकर

सीकर के जाबांज़ बेटे ने देश सेवा के लिए खुद को किया कुर्बान, सम्मान में निकाली तिरंगा यात्रा

Published

on

shaheed-havaldar-rajendra-ruhela

शेखावाटी की भूमि हमेशा से ही वीर सपूतों की धरा रही है और यहां के सैनिक मातृभूमि की रक्षा करने में कभी भी पीछे नहीं हटे हैं, जो देश सेवा से बड़ी कोई भी सेवा को नहीं मानते है।

गणतंत्र दिवस (Republic Day) के मौके पर सीकर (Sikar) से जिले से दुःखभरी खबर आयी है, जिले के फतेहपुर (Fatherpur) के नारी गांव (Nari Village) के आर्मी के 15 ग्रेनेडियर यूनिट में हवलदार राजेंद्र कुमार रुहेला (Havaldar Rajendra Kuar Ruhela) देश की सेवा करते हुए वीरगति प्राप्त की।

शहीद हवलदार राजेंद्र कुमार रुहेला की उनके पैतृक गाँव नारी में आज राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि की गई और उनके 12 साल के सुपुत्र सुमित ने मुखाग्नि दी।

आर्मी से मिली जानकारी के अनुसार पेड़ गिरने से सिर में गहरी चोट आने से उनकी मृत्यु हो गई। शहीद जाबांज़ के पार्थिव शरीर को आज सुबह 26 जनवरी 2022 को जिले के फतेहपुर लाया गया था।

शहीद हवलदार राजेंद्र रुहेला जी 18 साल की उम्र में इंडियन आर्मी में भर्ती हो गए थे और इस दौरान उनकी अलग अलग जगह जैसे जम्मू कश्मीर (Jammu & Kashmir), पठानकोट (Pathankot)और दिल्ली में ड्यूटी रही।

22 जनवरी 2022 को उनकी आर्मी की यूनिट सूडान (Sudan) जाने वाली थी, इसी लिए उनको दिल्ली (Delhi) में ही क्वॉरेंटाइन किया गया था।

9 जनवरी 2022 की शाम को खाना खाने के लिए हाथ धोने गए और इस दौरान सिर पर पेड़ टूटकर गिरने से हादसा हो गया। घायल अवस्था में उनको आर्मी हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया और गंभीर चोट आने के कारण ऑपरेशन के दौरान वो कोमा में चले गए। 25 जनवरी 2022 को सुबह 4 बजे देहांत हो गया।

PCC अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasara) भी शहीद की इस यात्रा में श्रद्धांजलि देने पहुंचे और कहा कि ऐसे जवानों के परिवारों को केंद्र और राज्य सरकार दोनों ही विशेष पैकेज उपलब्ध करवाती है। हमारा प्रयास रहेगा कि राजेंद्र के परिवार को उचित सहायता राशि उपलब्ध करवाई जाए। सीकर के प्रभारी मंत्री शकुंतला रावत और फतेहपुर विधायक हाकम अली खान भी शहीद की इस यात्रा में पहुंचे।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >