Connect with us

श्रीगंगानगर

रूहानी आवाज़ के जादूगर ‘ग़ज़ल सम्राट’ जगजीत सिंह जी की उतार चढ़ाव वाली जीवन की गाथा

Published

on

संगीत साधना है।और वह समर्पण मांगता है।ऐसे ही समर्पण का एक नाम है जगजीत सिंह।मशहूर ग़ज़ल गायक।अपने नाम के मुताबिक – जग को जीतने वाले।संगीत के जग को जगजीत सिंह का जन्म 8 फ़रवरी 1941 को राजस्थान के गंगानगर जिले में हुआ, उनका बचपन का नाम जगमोहन था। गंगानगर में खालसा स्कूल स्कूलिंग और गवर्नमेंट कॉलेज से शिक्षा ग्रहण ली।कहते हैं कि सिंह के पिता चाहते थे कि जगजीत सिंह इंजीनियर बने, लेकिन नियति को कुछ खास मंजूर था और वे संगीत में हुए मशहूर।

पंडित छगनलाल और उस्ताद जमाल खान उनके उस्ताद रहे।सिंह ने ग़जल गायकी में शिखर पर अपना प्रभाव बनाए रखा। एक जानकारी के मुताबिक वे 1965 में सपनों के शहर मुंबई गये।और वहीं एक प्लेबेक सींगर के तौर पर काम किया।और यहीं उनकी मुलाकात चित्रा नाम की लड़की से हुई और यही चित्रा आगे जाकर उनकी पत्नी बनी।और फिर एक एल्बम सिंह दंपत्ती का बना।और यहीं से जगजीत होते गए जग के।उनकी आवाज की धाक बनने लगी।

उन्हें बड़े बड़े कंसर्ट में सुना गया।उन्होंने दुश्मन, तुम बिन, अर्थ, साथ साथ, प्रेमकथा, सरफरोश आदि फ़िल्मों में गाया।उन्हें खूब सुना गया।उनके जीवन का एक टुकड़ा अपेक्षाकृत बुरे दौर में रहा।छोटी सी उम्र में उन्होंने अपने बच्चों को खो दिया।

ऐसी जानकारी मिलती है कि उनके बच्चों की मौत के बाद उनकी पत्नी ने तो गाना ही बंद कर दिया, बहुत स्वभाविक है कि ऐसे दौर में जगजीत सिंह ने भी गाना बंद कर दिया और जब वे इस अवसाद से उबरे तब उन्होंने पुन: गाना शुरू किया। उन्हें देश के मशहूर अवार्ड मिले।1988 में उन्हें मध्य प्रदेश से लता मंगेशकर सम्मान प्राप्त हुआ।वहीं दिल्ली अकादमी द्वारा गालिब पुरस्कार भी मिला।2003 में उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया।

मगज में रक्तस्राव के कारण 10 अक्टूबर 2011 को मुंबई के लीलावती अस्पताल में जगजीत सिंह के रूप में भारत ने एक बेहतरीन गायक खो दिया। साल 2014 में भारत सरकार द्वारा उनकी तस्वीर लगी एक डाक टिकट भी जारी की थी।राजस्थान सरकार ने भी अपना सर्वोच्च नागरिक सम्मान इनके नाम किया है।

जीवन में कला साहित्य लोक का जितना अहम योगदान है ठीक उतना ही योगदान संगीत का भी है मशहूर मांगणियार गायक दप्पू खान इंटरव्यू में कहते हैं कि संगीत जो है वह आपको हमेशा खुश रखता है।पवित्र रखता है यदि आप उसे लगातार उसके टच में रहते हैं तो वह आपके लिए एक संजीवनी है।आप खुश रहते हैं।आपको कोई परेशानी आती है तो आप उससे निजात पा सकते हैं।

लीजेंड जगजीत सिंह जी के बारे में यह लेख आपको कैसा लगा, आपका उनका पसंदीदा गाना या कोई गजल हो जो आपको बेहद पसंद हो कमेंट बॉक्स में जरूर बताये और अपने विचार हमारे साथ साझा करें

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >