श्रीगंगानगर के पंकज की कहानी- 4 बार फेल होने के बाद भी नहीं छोड़ा सफलता का दामन

Sri Ganganagar: जिंदगी में सफलता पाने के लिए सबसे पहले अपनी कमजोरियों पर विजय प्राप्त करनी चाहिए। भले ही कमजोरियां दूसरों से छिपाओ मगर खुद से कभी नहीं, खुद की कमियों और खामियों को स्वीकार जब आप आगे बढ़ेंगे तो यकीन कीजिए, जिंदगी में कामयाबी अख्तियार जरूर होगी। ऐसी हीं एक शख्स की प्रेरक बातों का जिक्र हम आपसे करने जा रहे हैं, जिन्होंने अपनी कमियों को दुरुस्त कर एक बड़ी सफलता हासिल की है। श्रीगंगानगर के निवासी पंकज तिवारी (Sri Ganganagar Pankaj Tiwari) ने हाल ही में राजस्थान सिविल जज कैडर ( (Sri Ganganagar Pankaj Tiwari) )- 2021 परीक्षा में 55वीं रैंक पाई है। उन्होंने कई बार असफलता से भेंट की, मगर हार नहीं मानी और आखिर में सिविल जज बन अपनी मेहनत और सकारात्मकता की उम्दा मिसाल पेश की। पंकज ने सोशल मीडिया पर खुद की कहानी शेयर करते हुए बेहद प्रेरक बातें लिखी हैं।

Pankaj Tiwari

पंकज तिवारी बताते हैं कि साल 2018 से 2020 के बीच (Sri Ganganagar Pankaj Tiwari) उन्होंने 4 बार न्यायिक सेवा परीक्षा दी मगर असफलता ही हाथ लगी। वह कहते हैं कि इंटरव्यू में वह 1 नंबर से भी रहे हैं, जिसके बाद वह बुरी तरह टूट गए थे, मगर उन्होंने हार नहीं मानी और अपनी कमजोरी को बारीकी से समझ जी-तोड़ मेहनत की और आज नतीजा सबके सामने है।

यह भी पढ़ें- बीकानेर: छोटे से गांव की निवासी अंजिल जानू ने किया RJS एग्जाम में टॉप~ जानें सफलता का मूल मंत्र

वह कहते हैं कि हमेशा खुद पर विश्वास रखिए और कभी भी खुद को कमजोर मत मानिए, असफलता और संघर्ष को बस जिया जा सकता है, शब्दों से बयां नहीं किा जा सकता। वह कहते हैं कि अपने अंदर कामयाबी की भूख रखिए और नासमझ बनकर रहिए।

असफलता के महत्त्व तथा मूल्य को समझिए और मेहनत तथा मजबूती के साथ असफलता से बाहर आइए तथा अपनी कमजोरियों पर विजय पाइए! अगर आपको लगता है कि कोई चीज़ आपके लिए नहीं बनी है तो उसे पाने के लिए पागल बने रहिए! जीभ जलने पर अगर हम रोटी नहीं छोड़ते तो असफलता मिलने पर मेहनत करना क्यों छोड़ दे..? याद रखें जब भी इतिहास लिखा जाएगा तो आपका एक – एक प्रयास गिना जाएगा। खुद को स्थापित करने के लिए कोई वन  वन भटका है तो किसी ने घास कि रोटी भी खाई है आपको भी खुद को किसी ना किसी तरह निखारना पड़ेगा। अपनी ऊर्जा को किसी भी नकारात्मक कार्य में ना लगाएं। सफल लोगों की बजाय असफल लोगों की कहानियां ज्यादा पढ़ें। प्रयास और परिणाम के अंतराल में आप जितनी साधन और धेर्य से काम करेंगे। वहीं, आपकी जीत सुनिश्चित करेगा। ‘हमेशा याद रखें कि आप अपने नसीब के मालिक खुद हैं। आपसे आपका सब कुछ छीना जा सकता है पर आपका नसीब नहीं।

यह भी पढ़ें- पिता नहीं कर पाए तो पोती ने किया दादा का ख्वाब पूरा- RJS एग्जाम में पाली की देशना बनीं 2nd टॉपर

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि