Connect with us

राजस्थान

ट्रीमैन ऑफ इंडिया : यह शख्स 27 साल से पर्यावरण के लिए कर रहा भागदौड़, अब तक लगाए 26 लाख पौधे

Published

on

देश में कई ट्रीमैन आज पर्यावरण को बचाने का काम कर रहे हैं लेकिन जिन्हें राष्ट्रपति द्वारा ट्रीमैन ऑफ इंडिया की उपाधि दी गई आज उनकी कहानी हम आप तक पहुंचाएंगे। हम बात कर रहे हैं पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा ट्री मैन ऑफ इंडिया की उपाधि पाने वाले विष्णु लांबा की जिन्होंने अब तक एक दो नहीं पूरे 26 लाख पौधे लगाए हैं।

33 साल के विष्णु लांबा राजस्थान के टोंक के रहने वाले हैं। उन्होंने अपने गांव के आस-पास समेत कई गांव में पौधारोपण किया है। उन्होंने राज्य के कई कल पतरन संस्थान, विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं और राज्य सरकारों के साथ मिलकर के पौधारोपण किया है। विष्णु लांबा पिछले 27 साल से पर्यावरण को बचाने के लिए काम कर रहे हैं।

पौधा चुराकर की थी शुरुआत

विष्णु लांबा की शुरुआत की बात करें तो उन्होंने आज से 27 साल पहले एक पौधा चुरा कर उस पौधे को एक अच्छी जगह लगाया था जिसके बाद उन्होंने इस काम को अच्छे और एक बड़े मंच पर करने की ठान ली।

जर्मन की टीम ने तैयार की डॉक्यूमेंट्री

ट्री मैन विष्णु लांबा की बात करें तो उनके जीवन के ऊपर डीडब्ल्यू जर्मन टीम द्वारा ट्री मैन ऑफ इंडिया के नाम से डॉक्यूमेंट्री फिल्म भी बनी है। फिल्म में हर चीज को बारीकी से दिखाया गया है। फिल्म का उद्देश्य है कि लोगों को पर्यावरण जागरूकता के लिए प्रेरित किया जा सके।

बॉलीवुड वाले भी विष्णु को करते हैं याद

विष्णु लांबा की बात करें तो उन्होंने अपने गांव समेत राज्य के तो कई जगहों पर पेड़ लगाए हैं। इसके साथ ही विष्णु ने देश की आजादी के क्रांतिकारियों के घर व उनके परिवार समेत चंबल के दस्युओं से लेकर बॉलीवुड के कई अभिनेताओं के घर में भी पौधारोपण किया है।

भाई के ससुराल वालों ने दिए पौधे

विष्णु लांबा अपने जीवन से जुड़े एक किस्से से के बारे में बताते हैं कि जब उनके भाई की शादी हुई तो भाई के ससुराल वालों की तरफ से विष्णु को शादी में ट्रॉली भर कर के पौधे उपहार में दिए गए। साथ ही विष्णु ने उन पौधों को गांव के चारों तरफ लगा दिया।

इसके साथ ही उन्होंने ग्रामीणों में भी पौधों को वितरित किया। विष्णु ने अब तक अपने गांव में भी लाखों की संख्या में पेड़ लगाए हुए हैं। विदेशी अखबारों में भी विष्णु के बारे में बहुत से आर्टिकल प्रकाशित हो चुके हैं।

मिल चुके हैं कई बड़े पुरस्कार

विष्णु लांबा को इस बेहतरीन कार्य के लिए राष्ट्रीय राजीव गांधी पर्यावरण पुरस्कार, अमृता देवी बिश्नोई पुरस्कार, डॉ एपीजे अब्दुल कलाम राष्ट्र निर्माण पुरस्कार, ग्रीन आईडल पुरस्कार, समेत राज्य व राष्ट्रीय स्तर के 100 से ज्यादा पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है।

देते हैं बेहतरीन संदेश

विष्णु लांबा कहते हैं कि एक व्यक्ति को अपने जीवन में पांच पेड़ तो कम से कम उगाने चाहिए। अगर व्यक्ति पांच पेड़ जीवन में नहीं हो उगा पाता तो उसे चिता पर लेटने का अधिकार नहीं है। एक चिता के प्रयोग में आने वाली लकड़ी लगभग 5 पेड़ों के बराबर होती है।

इसलिए व्यक्ति को अपने जीवन में पांच पेड़ तो जरूर लगाने चाहिए। वे कहते हैं कि पर्यावरण को बचाने के साथ-साथ हमें देश में हरा भरा वातावरण भी रखना जरूरी है। वह लोगों को पेड़ लगाने के लिए भी संदेश देते हैं, साथ ही उन्हें प्रेरित करते हैं।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >