Connect with us

साहित्य

वसु गंधर्व की कविताएँ

Published

on

1. संगीत
________________

वो एक अक्षुण्ण फुसफुसाहट थी
जो उसके कानों से होते
गुजरते उसकी आंखों के खालीपन से
उसके हृदय की रेत में धंसते भीतर
और उसकी देह के अंधेरे जंगल में
दुर्गंध और वासनाओं के पोरों से होते
उसके रंध्र-रंध्र में हुई व्याप्त

उसके बाल हो गए सफेद
अंधेरों और उजालों की परतों को लपेटे
वह भटकता रहा अपने एकांत के भीतर

संगीत आंतरिक से
किसी पुराने जख्म सा फूटा बाहर
किसी दीमक सा कुरेदता गया
उसकी स्मृतियों के भुसभुसे पन्नों को

छोड़ गया एक खोखली देह
भरने को ऋतुओं के असंबद्ध गान

छोड़ गया एक देह
जिसमें किसी सांप सा रेंगता था धीमे से
अपने उद्गम का मिथक।

2.आगमन
_________________

जब आग के हाथ बेच चुके होगे
अपना सबकुछ
देह के आधे हिस्से के बदले में मिलती होगी
बचे हिस्से भर की नींद
अस्तित्वमान होने के कथ्य को उकेरने के लिए
दी जाती हो बस मृत्यु की भाषा
जीभ के गर्म रक्त को
धधकते कागज पर टपकाने के सौदे में मिलता हो
एक बूंद जल

तब इस राख और कोहरे से ढंके
जर्जर में प्रवेश करना
तलाश लेना अपने हिस्से की
सदियों से बची नींद
और अपनी नग्न अपूर्णता को ढंकने भर झूठ

यह द्वार खुला है तुम्हारे लौटने की प्रतीक्षा में
भले ही यह प्रतीक्षा अनंत हो
और तुम्हारी लौटने के बात
एक मिथक।

3.नाम
______________

नाम किसी पुरानी बंदूक से चली गोली से
मिट्टी की जर्जर दीवार पर बना
एक सुराख है

इकतीस किटकिटाते दांतो के बीच
हवा की किटकिटाहट भर
एक दांत की खाली जगह
जहां से आर पार होता है प्रकाश

ज्यों कोई पुकारता है
जैसे अंधेरे कमरे में भरने लगती है
किसी की आंखों से झरती क्षीण रोशनी

ऐसे ही आती हैं ऋतुएँ
देह में लपेटे श्वेत चादर के उजास से
बिखेरते परागकण
और आती हैं दिशाएं
और यात्राओं के असंभावित गंतव्य

ऐसे ही आती है बंदूक की एक गुमशुदा गोली
और एक बिना चेहरे का नाम।

4.समाप्त कथा
______________

यहीं समाप्त होती है कथा
कोई वाक्य नहीं कहा जाना है आगे
कोई प्रतिक्रिया नहीं होनी है
इस चुप्पी के बरक्स

वृक्ष इतने शांत
कि किसी बूढ़े की बहुत पुरानी कथाओं में
सजे से लग रहे हों
और रीते पात्र में गिरता वर्षाजल का संगीत
जैसे बह रहा हो संध्या की देह में
जिसे सुनकर उदास हो जाता हो मन

इसी वृक्ष की टहनी पर
प्रतिध्वनित होती
रास्ता बताते किसी मिथकीय तोते की आवाज

इसी एकांत के जलाशय से निकलेगा
बूढ़ा चांद

इसी अकेली डाल पर
नींद से जागेगा रात का पहला पक्षी

इसी आकाश की विक्षिप्तता में
चमकेगी एक नई कथा।

5. एकांत का वृक्ष
_____________

यह वृक्ष के नीचे छितरा
एकांत नहीं
यह वृक्ष ही एकांत है

इसकी पत्तियां झरतीं शाश्वत
इसकी टहनियों से रिसता
नितांत अकेलेपन का गीत
जिसकी लय में प्लावित हो जातीं
तुम्हारी सारी प्रतीक्षाएँ
तुम्हारी कविताएं
तुम्हारा आसपास

इसके सूखे कड़कड़ाते पत्तों से चलकर ही
उतरता पतझर
और फैल जाता
तुम्हारी रात के सीने में

रात
जो पसरी रहती देर तक
इसकी छाँह में।

परिचय:

वसु गंधर्व की उम्र के हिसाब से उनकी कविताएँ आश्चर्य में डालती है।वे रायपुर में रहते हैं। उम्र बीस वर्ष है, बी.ए. द्वितीय वर्ष में पढ़ रहे, कविताओं के अलावा संगीत में भी रुचि है, वर्तमान में वे पं. अजय चक्रवर्ती से शास्त्रीय गायन भी सीख रहे।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >