Connect with us

खेल

टोक्यो ओलंपिक में भारत की उम्मीद मनिका बत्रा, 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स में जीते थे 4 मेडल

Published

on

कोरोना महामारी के एक साल बाद आखिरकार इस साल 23 जुलाई से टोक्यो ओलंपिक शुरू होने जा रहा है। इस बार ओलंपिक में भारत की तरफ से 100 से ज्यादा खिलाड़ी देश के लिए दावेदारी पेश करने जा रहे हैं।

भारत को टेबल टेनिस में मनिका बत्रा से काफी उम्मीदें हैं जो दूसरी बार ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करने जा रही है। वहीं टेनिस में पहली बार भारत से 4 खिलाड़ी ओलिंपिक में क्वॉलिफाई हुए हैं। भारत की नंबर वन टेनिस खिलाड़ी मनिका बत्रा ओलंपिक के लिए काफी समय से सोनीपत में तैयारी कर रही है।

नम्बर वन है दिल्ली की लड़की

मनिका बत्रा का जन्म 15 जून 1995 को नारायणा विहार दिल्ली में हुआ था। साल 2020 नवंबर में मनिका बत्रा भारत की टॉप फीमेल टेबल टेनिस प्लेयर बनी थी। इसके साथ ही पूरे विश्व में उनकी रैंक 62वीं है। मनिका ने 4 साल की उम्र से टेबल टेनिस खेलना शुरू कर दिया था। मनिका बताती हैं कि उन्हें मॉडलिंग के भी कई ऑफर मिले लेकिन आगे चलकर उन्होंने ठान लिया कि टेबल टेनिस में ही आगे जाना है।

कई बड़े पदक पर लगा चुकी है दांव

मनिका बत्रा ने 2011 में अंडर-21 में सिल्वर मेडल जीता था। वहीं साल 2015 कॉमनवेल्थ टेबल टेनिस चैंपियनशिप में 3 मेडल भी जीते थे। साल 2016 में साउथ एशियन गेम में उन्होंने तीन गोल्ड मेडल जीते थे।

वहीं 2018 गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में देश के लिए मनिका ने 4 मेडल अपने नाम किए थे। इसके अलावा उन्होंने महिला डबल्स में सिल्वर मेडल भी जीता।

13 साल की उम्र में किया देश का प्रतिनिधित्व

मनिका ने 2008 में महज 13 साल की उम्र में देश का प्रतिनिधित्व किया। वहीं साल 2020 में मनिका बत्रा को राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया।

स्विच टेक्नीक में है महारथ हासिल

मनिका गेम में स्विच टेक्नीक का इस्तेमाल कर खेल का रूख बदल देती है। मनिका खुद बताती है कि मैं घर पर बैठी-बैठी अपनी कलाई को घुमाती रहती हूं और सोचती हूं कि कैसे खेल में इसे अपनाया जाए।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >