गुंडों ने ट्रेन से दिया था फेंक- पैर कटा, मगर नहीं मानी हार और फिर पाई बड़ी सफलता!

Arunima Sinha Inspirational Story: इंसान में अगर कुछ कर दिखाने की चाह हो तो दुनिया की कोई ताकत कोई मजबूरी उसे रोक नहीं सकती। इन दिनों कई ऐसी नकारात्मक खबरें सामने आ रही हैं, जिनमें युवक निराश होकर अपनी जिंदगी खत्म कर देते हैं, ऐसे में उत्तर प्रदेश की अरुणिमा सिन्हा (Arunima Sinha) ऐसे लोगों के लिए एक प्रेरणा है, जो समस्याओं और तनाव को तगमा डाल, यह ठान बैठे हैं कि अब उनकी जिंदगी निर्रथक है।

anupama Full Story

खास बात है कि अरुणिमा ने अपना एक पैर खोने के बाद भी दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट (Mount Averst) को फतेह किया। आइए, अरुणिका की ज़िंदगी से जुड़ी कुछ खास बातें  जानते हैं-

कौन हैं Arunima Sinha?

उत्तर प्रदेश के अंबेडकर नगर में जन्मी अरुणिमा दुनिया की पहली दिव्यांग महिला है, जिन्होंने दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट को फतेह किया हैं। दिनांक 21 मईस 2013 को उन्होंने दुनिया की सबसे ऊंची चोटी को फतेह किया। अब अरुणिमा का लक्ष्य सात महाद्वीपों की सभी सात सबसे ऊंची चोटियों को फतह करने का है। आपको जानकर हैरानी होगी अरुणिमा ने अभी तक जितनी भी चोटियों को फतेह किया है वो सभी उन्होंने अपने आर्टिफीशियल पैर के माध्यम से की है। अभी तक उन्होंने एशिया, यूरोप, दक्षिण अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका की छह चोटियों को फतेह किया है। अरुणिका ने निम्न चोटियों को फतेह किया है।

  • एवरेस्ट (एशिया) 29,035 फिट
  • कोजिअस्को (आस्ट्रेलिया) 7310 फिट
  • माउंट विन्सन (अंटार्कटिका) 16,050 फिट
  • कास्टेन पिरामिड (इंडोनेशिया) 16,024 फिट
  • किलिमंजारो (अफ्रीका) 19,340 फिट
  • एल्ब्रूज (यूरोप) 18,510 फिट
  • माउंट अकंकागुआ (दक्षिण अमेरिका) 22837 फिट

एक दुर्घटना में खो दिया पैर

यह घटना 12 अप्रैल 2011 की जब अरुणिमा ने सीआईएसएफ (CISF) की प्रवेश परीक्षा के लिए लखनऊ से दिल्ली के लिए पद्मावती एक्सप्रेस ट्रेन पकड़ी थी। इसी दौरान कुछ लुटेरों ने अरुणिमा का बैग और उनकी सोने की चेन छीनने की कोशिश की और उनको ट्रेन के (Arunima Sinha Inspirational Story) जनरल डिब्बे से बाहर फेंक दिया। अरुणिमा जैसे ही ट्रेन की पटरी पर गिरीं, दूसरे ट्रैक पर आ रही ट्रेन ने उनके पैरों को कुचल दिया। उनकी जान बचाने के लिए डॉक्टरों को उनका एक पैर काटना पड़ा और फिर इलाज के करीब चार महीने बाद उन्हें एक आर्टिफीशियल पैर लगाया गया।

यह भी पढ़ें- इलेक्ट्रिशियन पिता ने बेटी को जमीन बेचकर बनाया अफसर, पढ़े कलेक्टर उर्वशी सेंगर की प्रेरक कहानी

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि