Connect with us

उत्तर प्रदेश

यूपीएससी इंटरव्यू से पहले हुई पिता की मृत्यु फिर भी नहीं मानी हार, IAS बन सपना किया पूरा

Published

on

ias Divyanshu Nigam

जीवन में कई बार ऐसी मुश्किलें हमारे सामने आ जाती हैं कि जिन से लड़ना हमारे लिए मुश्किल हो जाता है। लेकिन कहते हैं कि जो विश्वास और मजबूती के साथ उन मुसीबतों का सामना करता है वह अपने जीवन में सफल हो जाता है। इसी बात का एक बड़ा उदाहरण है उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के रहने वाले 25 वर्षीय दिव्यांशु निगम।

IAS दिव्यांशु निगम (Divyanshu Nigam) ने साल 2020 में यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में 44वी रैंक हासिल करके इस कठिन परीक्षा को पास किया और साथ ही दिव्यांशु आईएएस दिव्यांशु बन गए हैं। उनके लिए यह कठिन इसलिए रहा क्योंकि उनके इंटरव्यू परीक्षा से कुछ दिन पहले ही उनके पिता एस.के निगम का कोरोनावायरस से निधन हो गया था।

पहले 2 प्रयासों में रहे असफल

दिव्यांशु निगम की बात करें तो उन्होंने बिट्स पिलानी गोवा केंपस से केमिकल इंजीनियर की डिग्री प्राप्त की है। वही हम आपको यूपीएससी से संबंधित उनके बारे में जानकारी दें तो उन्होंने तीसरे प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा को पास किया है। पहले दो प्रयास में असफल हो गए थे। पहले प्रयास में उनकी प्री परीक्षा पास हुई और दूसरे प्रयास में वह इंटरव्यू तक पहुंचे लेकिन असफल हो गए। लेकिन तीसरे प्रयास में उन्होंने कड़ी मेहनत की और ऑल इंडिया में 44वी रैंक हासिल करके इस परीक्षा को पास किया है।

पिता के जाने से लगा सदमा

दिव्यांशु निगम के पिता एसके निगम की तबीयत अचानक बिगड़ गई थी। उन्हें लखनऊ (Lucknow) के एसजीपीजीआई अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन जब देश में कोरोनावायरस अपने चरम पर था और लगातार कई हजारों जानें रोजाना जा रही थी। उसी दौरान दिव्यांशु ने भी अपने पिता को खो दिया।

उनके पिता के इस दुनिया के चले जाने के कुछ दिनों बाद ही उन का इंटरव्यू होना था। इसके बाद दिव्यांशु ने खुद को संभाला और संयम रखते हुए खुद को मजबूत किया और अपने इंटरव्यू परीक्षा पर फोकस करके उसे पास किया। दिव्यांशु कहते हैं कि हमें विपरीत परिस्थितियों में खुद को मजबूत करते हुए आगे बढ़ना चाहिए।

कैसे तैयारी करे अभियार्थी और रखे इन बातों का ध्यान

दिव्यांशी निगम कहते हैं कि यूपीएससी की परीक्षा के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है पढ़ाई। साथ ही साथ डिसिप्लिन होना भी उतना ही जरूरी है। आपके जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं और ऐसे में आपको हमेशा यह याद रखना चाहिए कि आप क्यों इस परीक्षा को देने के लिए तैयारियां कर रहे हैं। इन चीजों से आपको मोटिवेशन मिलती है।

वह कहते हैं कि मेरे पिता इंडियन फॉरेस्ट सर्विस में थे और मुझे बचपन से ही पढ़ाई का माहौल मिलता था। अपने परिवार के आशीर्वाद अपने गुरुजनों के आशीर्वाद से ही मैंने इस परीक्षा को पास किया है और मैं अपनी सफलता का श्रेया अपने पिता को देता हूं।

तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों के लिए दिव्यांशु निगम कहते हैं कि सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप रोज पढ़े। कम से कम 8 घंटे तक पढ़ाई करना जरूरी है। इसके बाद अपने सिलेबस को देखें और उसे तैयार करें। अपने रिसोर्सेज को लिमिटेड रखें, लिमिटेड रिसोर्सेज के साथ-साथ आपको रिवीजन करना सबसे ज्यादा जरूरी है। वही यूपीएससी की परीक्षा देते वक्त समय कम होता है, ऐसे में राइटिंग प्रैक्टिस करना जरूरी है। जिन चीजों से तैयारी कर रही अभ्यार्थियों को डिस्ट्रक्शन होती है उन चीजों को नजरअंदाज करना चाहिए। मेहनत के साथ ईमानदारी के साथ तैयारी करनी चाहिए।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

   
    >