IAS Pratiksha Singh: पिता का सिर से उठा साया, मगर नहीं खोया आत्मविश्वास और बन गईं IAS अफसर

IAS Pratiksha Singh Story: पिता का सिर से उठा साया, मगर नहीं खोया आत्मविश्वास और बन गईं IAS अफसरआज हम आपको एक ऐसी महिला की प्रेरक कहानी बताएंगे जिन्होंने अपनी मजबूरियों को मजबूती में तब्दील कर दिया। वह महिला जिसके ऊपर बचपन में ही पिता का साया उठ गया। इस मुश्किल घड़ी में उन्होंने अपनी माता के साथ मिलकर जीवन में संघर्ष किया तथा अपनी पढ़ाई पर भी ध्यान केंद्रित रखा। नतीजतन उन्होंने आज एक ऐसा मुकाम पा लिया है जिसकी ख्वाहिश हर कोई रखता है।

हम बात कर रहे हैं उत्तरप्रदेश (Uttar Pradesh) के सीतापुर (Sitapur) के विकासखंड गोंदलामऊ (Gondlamau) क्षेत्र के इस्माइल गंज (Ismileganj) गांव के निवासी स्वर्गीय राकेश कुमार की बेटी प्रतीक्षा सिंह (IAS Pratiksha Singh Story) की, जिन्होंने महज 22 साल की उम्र में अपना ख्वाब मुकम्मल किया है।

पढ़ाई में होशियार

IAS Pratiksha Singh

आईएएस अफसर प्रतीक्षा सिंह (IAS Pratiksha Singh Story) की पढ़ाई लखनऊ (Lucknow) के नवीपना गांव बख्शी तालाब से हुई। वह 12वीं कक्षा में नवोदय विद्यालय से टॉपर रहीं। इसके बाद अच्छे नंबरों की बदौलत उनका एडमिशन एमिटी यूनिवर्सिटी (Amity University) में हो गया और उसके बाद उन्होंने वहां से बीटेक में ग्रेजुएशन की। स्कॉलरशिप मिलने के कारण उनका ज्यादा खर्च नहीं आया। लेकिन उनकी मां और खुद उन्होंने हॉस्टल में ही रहकर कॉलेज की पढ़ाई की। ग्रेजुएशन की परीक्षा पूरी करने के बाद प्रतीक्षा ने लखनऊ विश्वविद्यालय से राजनीतिक विज्ञान में एमए (MA) की डिग्री प्राप्त की।

तीसरे प्रयास में यूपीएससी (UPSC)

इसके बाद प्रतीक्षा सिंह ने यूपीएससी की तैयारी करना शुरू कर दिया। उन्होंने अपने तीसरे प्रयास में यूपीएससी (UPSC Civil Services) में 622 वी रैंक हासिल की है। बता दें  प्रतीक्षा ने पीसीएस (PCS) की परीक्षा भी पास कर ली थी। लेकिन उनका सपना आईएएस अफसर बनना था और इसी वजह से उन्होंने यूपीएससी की तैयारी की।

परिवार सामान्य लेकिन सपना बड़ा

प्रतीक्षा सिंह की बात करें तो वह एक सामान्य मध्यमवर्गीय परिवार से आती हैं। जब छोटी थी तब उनके पिता की मृत्यु हो गई और इसके बाद उनकी मां ने मेहनत कर अपनी बेटी को पालना शुरू कर दिया। प्रतीक्षा ने अपने ननिहाल जा कर भी रहना शुरू कर दिया था। वह हमेशा से जीवन में कुछ बड़ा करना चाहती थी। इस वजह से अपने परिवार की मजबूरियों को मजबूती में उन्होंने तब्दील कर दिया। पढ़ाई में हमेशा से होशियार थी और स्कूल के समय से ही अव्वल नंबर से पास हुआ करती थी। इस वजह से स्कूल में भी उन्हें स्कॉलरशिप मिली और कॉलेज में भी स्कॉलरशिप मिलने के कारण उन्होंने वहां भी टॉप किया था।

सफलता के पीछे माँ की मेहनत

22 साल की प्रतीक्षा ने ऑल इंडिया में 622वी रैंक लेकर आई है और यूपीएससी परीक्षा को पास किया है। अपनी सफलता के पीछे वह बताती हैं कि परिवार के सहयोग और खुद की मेहनत का फल उन्होंने पाया है। आपको बता दें तो वह मार्केटिंग इंस्पेक्टर बाबा इंद्रेश कुमार को अपनी इंस्पिरेशन मानती हैं। वह अपनी सफलता के पीछे अपनी मां की मेहनत और गुरुजनों के आशीर्वाद को श्रेय देती हैं। वह कहती हैं कि सभी के आशीर्वाद और सहयोग से ही उन्होंने इस मुकाम को पाया है।

यह भी पढ़ें- अब्दुल ने आईएएस की बेटी को लव जिहाद का शिकार बनाया, पढ़ें पूरी खबर

Add Comment

   
    >
राजस्थान की बेटी डॉ दिव्यानी कटारा किसी लेडी सिंघम से कम नहीं राजस्थान की शकीरा “गोरी नागोरी” की अदाएं कर देगी आपको घायल दिल्ली की इस मॉडल ने अपने हुस्न से मचाया तहलका, हमेशा रहती चर्चा में यूक्रेन की हॉट खूबसूरत महिला ने जं’ग के लिए उठाया ह’थियार महाशिवरात्रि स्पेशल : जानें भोलेनाथ को प्रसन्न करने की विधि