Connect with us

उत्तर प्रदेश

UP में बाप – बेटी के बीच चुनावी घमासान, BJP सपा की इस टक्कर में कौन मारेगा बाजी ?

Published

on

up riya vs vinay shakya news

उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव(Uttar Pradesh Assembly Elections 2022)  के मद्देनजर बीजेपी ने 85 उम्मीदवारों की एक और लिस्ट जारी की है। इस लिस्ट में रिया शाक्य (Riya shakya) का भी नाम है। हाल ही में बीजेपी छोड़कर समाजवादी पार्टी में गए विधायक विनय शाक्य (MLA Vinay Shakya) की बेटी को BJP ने बिधूना(Bidhuna Assembly)  से उम्मीदवार बनाया है।

बीजेपी ने औरेया(Auraiya) जिले की बिधूना विधानसभा(Bidhuna Assembly)  सीट से रिया शाक्य को टिकट दिया है। रिया के पिता विनय शाक्य इस सीट से मौजूदा विधायक हैं। हाल ही में वो बीजेपी छोड़कर सपा में शामिल हुँवे है। समाजवादी पार्टी विनय शाक्य को  बिधूना से चुनाव लड़ाने की तैयारी कर रही है। अगर ऐसा होता है तो बिधूना में बाप और बेटी के बीच चुनावी जंग होगी।

पिता की सोचने की शक्ति कम है – रिया

योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya)  के साथ ही भाजपा का साथ छोड़ अखिलेश यादव की साइकिल पर सवार होने वाले बिधुना से विधायक विनय शाक्य (MLA Vinay Shakya) की बेटी रिया शाक्य का कहना है, कि उनके पिता अपनी मर्जी से समाजवादी पार्टी में शामिल नहीं हुए हैं। रिया शाक्य ने अपने चाचा पर हमला बोलते हुए कहा कि सपा में शामिल होना मेरे पिता जी की मर्जी नहीं थी। मेरे पिता ठीक से बोल नहीं सकते। वे न ही चल सकते हैं। वह ये चुनाव नहीं लड़ना चाहते थे। न ही वे बीजेपी छोड़ना चाहते थे।

रिया के मुताबिक, उनके पिता विनय शाक्य को 1 मई 2018  में ब्रेन स्ट्रोक हुआ था,उ सके बाद से उनकी तबीयत ठीक नहीं रहती और ऑपरेशन के बाद उनकी सोचने की शक्ति भी कम हो गई है। अगर वो थोडा सोच-समझ पाते तो बीजेपी छोड़ने का फैसला नहीं लेते। लेकिन मेरे चाचा ने उन्हें जबरन सपा(SP) में शामिल कराय।

25 साल की है रिया

रिया शाक्य 25 साल की हैं। देहरादून के बोर्डिंग स्कूल में उन्होंने पढ़ाई की है और पुणे के सिम्बायोसिस यूनिवर्सिटी से यूनिवर्सिटी से उन्होंने बैचलर और डिजाइन की पढ़ाई की है। उन्होंने ‘user experience design’ में स्पेशलाइजेशन भी किया है। रिया कहती हैं कि मैंने जो कोर्स किया है, उसका लाभ अब यहां के क्षेत्र की जनता को दूंगी। रिया शाक्य ने कहा, महिला सुरक्षा और विकास उनका सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा होगा।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >