Connect with us

उत्तराखंड

बस्ती में गंदा पानी पीती महिला को देख दिल पसीजा, प्रण लिया और बन गई डॉक्टर से कलेक्टर

Published

on

आज की कहानी एक ऐसी आईएएस अफसर की जिनको एक महिला की बात ऐसी दिमाग में बैठी थी कि उन्होंने ठाना कि मुझे सिर्फ आईएएस अफसर ही बनना है। हम बात कर रहे हैं हरिद्वार की रहने वाली आईएएस अफसर प्रियंका शुक्ला की जिनका जन्म हरिद्वार में हुआ था।

प्राथमिक शिक्षा हरिद्वार से पूरी करने के बाद प्रियंका ने 2006 में लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी से एमबीबीएस की डिग्री ली और लखनऊ के इसी मेडिकल अस्पताल में प्रैक्टिस करना शुरू कर दिया।

पिता चाहती थे बेटी बने डीएम

प्रियंका शुक्ला की बात करें तो वह हमेशा से पढ़ाई में होशियार थी। उनके पिता हमेशा से चाहते थे कि उनकी बेटी आईएएस अफसर बनें। वह बताती हैं कि उन्होंने भी आईएएस अफसर बनने की तैयारी शुरू कर दी थी लेकिन स्थितियां ऐसी हुई कि उन्होंने मेडिकल लाइन यानी डॉक्टर बनने की तरफ रुख किया।

स्लम एरिया में एक औरत की बात दिल में बैठ गई

प्रियंका शुक्ला बताती है कि वे एक बार झुग्गी झोपड़ी के एरिया में चेकअप करने के लिए गई हुई थी। वहां उन्होंने देखा कि एक महिला अपने बच्चों को गंदा पानी पिला रही है, उसके बाद प्रियंका ने वहां जाकर उस महिला को रोकने का प्रयास किया, उन्होंने कहा कि गंदा पानी पीने से आपको बीमारियां हो सकती है। इसके जवाब में पानी पी रही महिला ने प्रियंका को पलट कर जवाब दिया कि तुम कौन होती मुझे रोकने वाली आई बड़ी कलेक्टर। इसके बाद प्रियंका के मन में यह बात घर कर गई और उन्होंने ठान लिया कि अब सिर्फ आईएएस अफसर बनना है।

बस्ती के लोगों के लिए करना था कुछ काम

प्रियंका शुक्ला ने बताया कि इस घटना के बाद उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी करना शुरू कर दिया। उन्होंने ठान लिया कि वह एक अच्छे पद पर जाकर झुग्गी झोपड़ी जैसे एरिया के लिए काम करेंगी। साथ ही वह बताती हैं कि जब उन्होंने अपना पहला प्रयास दिया तो वह असफल हो गई और हार ना मानकर उन्होंने एक बार फिर प्रयास किया और साल 2009 में डॉ प्रियंका शुक्ला बन गई आईएएस अफसर प्रियंका शुक्ला।

कई बेहतरीन काम किए

प्रियंका शुक्ला वर्तमान में छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले की डीएम है और अपने पद पर रहते हुए वह जनहित के लिए कई बेहतरीन कार्य कर रही है। उनको मिले पुरस्कार इस बात का दावा करते हैं कि प्रियंका शुक्ला निस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा कर रही है। साल 2011 में उन्हें राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के द्वारा सेंसर सिल्वर मेडल से नवाजा गया था। पढ़ाई के स्तर को ऊंचा ले जाने के लिए उनके द्वारा किए गए काम के लिए राष्ट्रपति ने उन्हें सम्मानित किया था।

सोशल मीडिया पर रहती है एक्टिव

इसके अलावा सोशल मीडिया पर भी प्रियंका शुक्ला लगातार एक्टिव रहती है। उनकी रूचि की बात करें तो उन्हें कविताएं लिखना साथ ही नृत्य करना बेहद पसंद है। प्रियंका शुक्ला को गाना गाने के अलावा चित्रकारी का भी शौक है। कोरोना वायरस महामारी के दौरान उन्होंने लोगों को घर में बैठकर के सरकार द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों का पालन करने के लिए जागरूक भी किया था।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
    >