Connect with us

उत्तराखंड

मेजर विभूति शंकर की पत्नी निकिता कॉल ने इंडियन आर्मी ज्वॉइन कर दी सच्ची श्रद्धांजलि

Published

on

पुलवामा में अपने प्राणों की आहुति देने वाले उत्तराखंड के रहने वाले मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल की पत्नी ने उन्हें दी सच्ची श्रद्धांजलि।। 2 दिन पहले मेजर विभूति की पत्नी निकिता कौल ने भारतीय सेना को ज्वाइन कर लिया है। पति द्वारा देश के लिए प्राण न्यौछावर के बाद जिसके बाद उनकी पत्नी ने संकल्प लिया कि वह भी अपने पति के तरह भारतीय सेना में देश की रक्षा करेगी। मेजर विभूति की पत्नी निकिता ने भारतीय सेना को बतौर लेफ्टिनेंट पद पर ज्वाइन किया है।

मेजर विभूति और लेफ्टिनेंट निकिता की शादी 18 अप्रैल 2018 को हुई थी। शादी की महज 9 महीने बाद फरवरी 2019 में मेजर विभूति दुनिया को छोड़ कर चले गए थे। बचपन से ही सेना में जाना चाहते थे विभूति : मेजर विभूति के पिता बताते हैं कि विभूति को बचपन से ही सेना में जाने चाहते थे। मेजर विभूति अपने परिवार में तीन बहनों पर एकलौते भाई थे। सातवीं कक्षा में ही विभूति ने सेना में जाने की तैयारी शुरू कर दी थी।

उन्होंने नेशनल इंडियन मिलिट्री कॉलेज में भर्ती की परीक्षा में दी थी,लेकिन तब उनका चयन नहीं हो पाया था। इसके बाद 12वीं कक्षा में उन्होंने एनडीए की परीक्षा भी दी थी और वहां भी उनको सफलता नहीं मिली थी। लेकिन हार ना मानते हुए विभूति ने ग्रेजुएशन के बाद तैयारी की और उनका चयन हुआ। जिसके बाद ओटीए चेन्नई में उन्होंने परीक्षण पूरा किया और 2012 में पास आउट होकर उन्होंने कमीशन प्राप्त करते हुए भारतीय सेना को ज्वाइन किया।

परीक्षा पास करके, सेना में शामिल हुई निकिता : वही निकिता कौल की बात करें तो पति के श’हीद हो जाने के बाद 6 महीने बाद ही निकिता ने तैयारी करके शॉर्ट सर्विस कमीशन की परीक्षा में सफलता हासिल कर ली। एसएसबी इंटरव्यू में पास होकर ओटीए चेन्नई में परीक्षण किया और पासिंग आउट परेड के बाद लेफ्टिनेंट पद पर सेना को ज्वाइन किया। निकिता को उत्तरी कमान में आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाई. के जोशी ने कंधे पर स्टार चढ़ा कर भारतीय सेना में स्वागत किया।

वहीं जनरल ने भी निकिता को सेना में स्वागत करते हुए कहा कि मुझे आप पर गर्व है। निकिता की पोस्टिंग साउथवेस्टर्न में हुई है और वहां जाकर वह भारतीय सेना की कमान संभालेंगी। वहीं रक्षा मंत्रालय के पीआरओ अधिकारी उधमपुर ने ट्वीट करके इसका वीडियो साझा किया। उन्होंने लिखा कि पुलवामा में प्राण न्योछावर करने वाले मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल को मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया। उन्हें सर्वश्रेष्ठ श्रद्धांजलि देते हुए आज उनकी पत्नी निकिता कौल ने सेना की वर्दी पहन ली। यह उनके लिए गर्व का मौका होगा, क्योंकि सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट वाई के जोशी ने उनके कंधे पर स्टार लगाए।’

मजबूती से आगे बढ़े, लक्ष्य जरूर मिलेगा : लेफ्टिनेंट निकिता कौल महिलाओं को संदेश देते हुए कहती हैं कि मजबूती और एकाग्रता से जीवन में आगे बढ़ते रहना चाहिए। तमाम परेशानियों को से लड़ने के लिए आपको हिम्मत करके मेहनत करनी चाहिए। एक ना एक दिन सफलता जरूर मिलती है। निकिता ने एकता और मजबूती के साथ खड़ा रहने की अपील भी करती हैं। अपने पति के जाने के बाद उन्होंने संकल्प लेकर कॉर्पोरेट दुनिया की नौकरी छोड़ करके सेना में जाने का निर्णय लिया और सफलतापूर्वक आज भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट पद पर कार्यरत हो चुकी है। निकिता की मजबूती और उनकी मेहनत को हम सलाम करते हैं। साथ ही निकिता कौल और उनके परिवार को बधाई देते हैं।

   
    >