Connect with us

उत्तराखंड

लाखों की अमेरिका बैंक में नौकरी छोड़ बिना कोचिंग के बन गयी आईएएस, IAS सदफ़ चौधरी की कहानी

Published

on

ias sadaf choudhary

आज हम आपको कहानी बताएंगे सदफ चौधरी की। ग्रीन पार्क कॉलोनी मोहित पुर गांव रुड़की उत्तराखंड (Uttarakhand) की रहने वाली IAS सदफ चौधरी (Sadaf Choudhary IAS) ने साल 2020 में यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में ऑल इंडिया में 23 वीं रैंक हासिल की है और वह आईएएस बन माँ बाप का नाम रोशन किया।

सदफ चौधरी कि शिक्षा की बात करें तो उन्होंने एनआईसी जालंधर से बीटेक केमिकल इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की है। साल 2016 में केमिकल इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त करने के बाद में अमेरिका बैंक में जॉब करने लगी थी। इसके बाद साल 2018 में उन्होंने जॉब को छोड़ कर घर पर रहकर यूपीएससी की तैयारी करना शुरू कर दिया।

सदफ के पिता मोहम्मद इसरार यूपी ग्रामीण बैंक में मैनेजर पद पर कार्यरत है। वह देवबंद नागल ब्रांच में इस वक्त कार्यरत है। उनकी मां का नाम शहबाज बानो है और उनके अलावा उनके माता-पिता के एक बेटी और एक बेटा और है।

बचपन का सपना पूरा, बिना कोचिंग पाया पद

सदफ चौधरी की बात करें तो उनका बचपन से ही सपना था कि वह आईएएस बने। उन्होंने अमरोहा (Amroha) के सीएसए से शिक्षा प्राप्त की और साल 2010 में वह जिले में टॉपर रही थी। साल 2012 में उन्होंने सीबीएससी से 91% अंक हासिल किए थे और इसके बाद जेईई मेंस (JEE Mains) क्लियर किया था। फिर इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की थी, इंजीनियर बनने के बाद वह अमेरिका बैंक में नौकरी करने लगी थी।

नौकरी के दौरान उन्हें याद आया कि उनका बचपन का सपना कहीं धूमिल सा होता जा रहा है और उन्होंने अपने बचपन के सपने को एक बार फिर जगाया। बाद में अपने सपने को पूरा करने के लिए जॉब छोड़ दी और घर पर रहकर बिना कोचिंग के तैयारी करना शुरू कर दिया। सदफ की 2 साल की मेहनत रंग ले आई और उन्होंने 2 साल बिना कोचिंग के यूपीएससी के परीक्षा को पास किया। राजनीतिक विज्ञान विषय के साथ यूपीएससी में 23 वी रैंक हासिल की है।

मां बाप को दिया श्रेय

सदफ अपनी कामयाबी के पीछे अपने परिवार को श्रेय देती हैं। वह कहती है कि परिवार का प्यार विश्वास और उनकी त्याग की देन है कि उन्होंने इस मुकाम को हासिल किया है। इसी के साथ में वह कहती हैं कि उनकी कड़ी मेहनत दृढ़ विश्वास से उन्हें उनकी मंजिल मिल पाई है। अब वह आईएएस पद पर रहकर विश्व भर में भारत के नाम को चमकाने का पूरा प्रयास करेंगी।

   
    >